Bitcoin Declared Legal Currency in El Salvador : अल सल्वाडोर क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन को कानूनी दर्जा देने वाला दुनिया का पहला देश बन गया है. अब तक किसी देश ने इसे अपनी वैध करेंसी नहीं घोषित किया था. अल-सल्वाडोर अब आधिकारिक रूप से पहला देश बन गया है कि जहां बिटकॉइन को किसी भी सौदे के लिए कानूनी करेंसी के तौर पर मान्यता मिल गई है. अल-सल्वाडोर की संसद में बिटकॉइन को 62 की तुलना में 84 वोटों से मंजूरी दे दी गई. राष्ट्रपति नायिब बुकेले ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी. इस ऐलान के बाद बिटक्वाइन की कीमत 33,98 डॉलर से बढ़ कर 34,398 डॉलर पर पहुंच गई.

dubaicoin newly formed cryptocurrency in the middle east jumped in value

CryptoWire ने भारत में लॉन्च किया क्रिप्टोकरेंसी का पहला इंडेक्स IC15, टॉप क्रिप्टो पहला क्रिप्टोक्यूरेंसी को करेगा मॉनिटर

CryptoWire ने भारत में लॉन्च किया क्रिप्टोकरेंसी का पहला इंडेक्स IC15, टॉप क्रिप्टो को करेगा मॉनिटर

क्रिप्टो सुपर ऐप क्रिप्टोवायर (CryptoWire) ने देश का पहला क्रिप्टोकरेंसी सूचकांक (Cryptocurrency Index) आईसी15 (IC15) जारी करने की घोषणा की है. क्रिप्टोवायर ने एक बयान में कहा कि सूचकांक दुनिया के प्रमुख क्रिप्टो बाजारों (एक्सचेंज) पर सूचीबद्ध व्यापक रूप से कारोबार वाली शीर्ष 15 क्रिप्टोकरेंसी के प्रदर्शन पर नजर रखेगा और उसे मापेगा. यह सूचकांक 80 प्रतिशत से अधिक बाजार गतिविधियों पर गौर करेगा. इस प्रकार, मौलिक रूप से यह संबंधित बाजार की वास्तविक स्थिति को सामने लाएगा. इससे पारदर्शिता बढ़ेगी.

यह भी पढ़ें

पिछले कुछ साल साल से क्रिप्टोकरेंसी एक संपत्ति वर्ग के रूप में उभरा है. इसकी स्वीकार्यता बढ़ने के साथ लोगों की इसमें रुचि बढ़ रही है.पहला क्रिप्टोक्यूरेंसी

बयान के अनुसार, क्रिप्टोवायर की सूचकांक संचालन समिति हर तिमाही में इसे पुनर्संतुलित करेगी, उस पर नजर रखेगी और उसे क्रियान्वित करेगी. समिति में क्षेत्र के विशेषज्ञ, उद्योग से जुड़े लोग और शिक्षाविद शामिल हैं.

सूचकांक का आधार मूल्य 10,000 तय पहला क्रिप्टोक्यूरेंसी किया गया है तथा आधार तिथि एक अप्रैल, 2018 है. सूचकांक IC15 में Bitcoin, Ethereum, XRP, Litecoin, Binance Coin, Solana, Tera, Chainlink जैसी क्रिप्टोकरेंसी शामिल हैं.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

दुबईकॉइन कैसे खरीदें

अगर आप भी दुबईकॉइन (dubaicoin) खरीदना चाहते हैं तो आपको यह पता होना चाहिए कि अभी यह किसी बड़े एक्सचेंज पर खरीद बिक्री के लिए उपलब्ध नहीं है। अगर आप दुबईकॉइन (dubaicoin) खरीदना चाहते हैं तो आप इसके बदले बिटकॉइन (BitCoin) या बाइनेंस कॉइन एक्सचेंज जा सकते हैं। यहां दुबईकॉइन (dubaicoin) एक्सचेंज के लिए उपलब्ध है। दुबईकॉइन HitBTC, Cryptopia प्लेटफार्म पर खरीदारी के लिए उपलब्ध है।

दुबई कॉइन पर आरोप

दुबईकॉइन (dubaicoin) को यूएई की कंपनी पहला क्रिप्टोक्यूरेंसी Arabianchain Technology ने लॉन्च किया है जिसे पहले दुबई की आधिकारिक क्रिप्टोकरेंसी कहकर प्रमोट किया गया था। हालांकि Dubai Electronic Security Centre का कहना है कि दुबईकॉइन (dubaicoin) को किसी भी आधिकारिक एजेंसी ने मंजूरी नहीं दी है। जो वेबसाइट दुबईकॉइन (dubaicoin) को प्रमोट कर रही है उसके पास लाइसेंस नहीं है। आरोप यह भी है पहला क्रिप्टोक्यूरेंसी कि दुबईकॉइन (dubaicoin) एक फिशिंग कैंपेन है जिसका मकसद लोगों की व्यक्तिगत जानकारी चुराना है।

कंपनी ने क्या कहा?

दुबईकॉइन (dubaicoin) लॉन्च करने वाली कंपनी अरेबियन चेन टेक्नोलॉजी का कहना है कि दुबई कॉइन अरेबिक रीजन में लांच की गई पहली ब्लॉकचेन आधारित क्रिप्टो करेंसी (CryptoCurrency) है। दुबई कॉइन (dubaicoin) लॉन्च करते समय कंपनी ने कहा कि इसका प्रयोग बहुत सी सामान की खरीदारी और सेवाओं के लिए किया जा सकता है। dubaicoin ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यम से स्वीकार किए जा सकते हैं। कंपनी ने कहा कि दुबईकॉइन (dubaicoin)लॉन्च करने का उसका उद्देश्य ट्रेडिशनल करेंसी की जगह एक डिजिटल करेंसी को बढ़ावा देना है। कंपनी ने यह भी घोषणा की पहला क्रिप्टोक्यूरेंसी कि नई डिजिटल करेंसी दुबईकॉइन (dubaicoin) को प्रशासन और ऑथराइज ब्रोकर द्वारा नियंत्रित किया जाएगा।

CoinSwitch ने भारतीय रुपये में देश का पहला क्रिप्‍टो इंडेक्‍स CRE8 लॉन्‍च किया

CoinSwitch ने भारतीय रुपये में देश का पहला क्रिप्‍टो इंडेक्‍स CRE8 लॉन्‍च किया

बिटकॉइन और ईथीरियम के अलावा यह इंडेक्स बिनेंस कॉइन, रिपल, कार्डानो, सोलाना, पोलकाडॉट और डॉजकॉइन को भी ट्रैक करेगा।

खास बातें

  • CoinSwitch ऐप के 1.8 करोड़ से ज्‍यादा रजिस्‍टर्ड यूजर्स हैं
  • CoinSwitch को साल 2017 में स्‍थापित किया गया था
  • साल 2020 में इसे रुपी-बेस्‍ड क्रिप्टो ट्रेडिंग के तौर पर आगे बढाया गया

भारत के सबसे बड़े क्रिप्टो इन्‍वेस्टिंग ऐप कॉइनस्विच (CoinSwitch) ने देश का पहला बेंचमार्क इंडेक्स लॉन्च किया है, जो रूपी-बेस्‍ड क्रिप्टो मार्केट की परफॉर्मेंस को ट्रैक करेगा. CRE8 नाम का यह इंडेक्‍स 8 पॉपुलर क्रिप्टो असेट्स के मूवमेंट को फॉलो करेगा, जिनमें बिटकॉइन (Bitcoin) और ईथीरियम (Ethereum) भी शामिल हैं. ये असेट्स भारतीय रुपये में कारोबार किए गए क्रिप्टो कॉइंस के कुल मार्केट कैपिटलाइजेशन का 85 फीसदी से अधिक हिस्‍सा कवर करती हैं. CoinSwitch ऐप के 1.8 करोड़ से ज्‍यादा रजिस्‍टर्ड यूजर्स हैं. क्रिप्‍टो मार्केट में जारी अस्थिरता के बीच इस सेक्‍टर को आगे बढ़ाने वाले कदम उठाए जा रहे हैं. हाल ही में Binance Labs ने अपने Web3 से जुड़े फंड के लिए लगभग 50 करोड़ डॉलर का इनवेस्टमेंट हासिल किया है. Binance ने अफ्रीका में ब्लॉकचेन एंड क्रिप्टोकरेंसी अवेयरनेस टुअर (BCAT) शुरू करने की तैयारी भी की है. वहीं, अमेरिका में बहुत से लोग अपनी रिटायरमेंट पर फंड जुटाने में मदद के लिए क्रिप्टोकरेंसीज में इनवेस्टमेंट कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें


बिटकॉइन और ईथीरियम के अलावा यह इंडेक्स बिनेंस कॉइन, रिपल, कार्डानो, सोलाना, पोलकाडॉट और डॉजकॉइन को भी ट्रैक करेगा. आशीष ने कहा कि CRE8 बाकी प्लेटफार्मों से अलग है. यह हमें समझता है कि इंडियंस क्रिप्टो में कैसे निवेश कर रहे हैं. CoinSwitch को साल 2017 में क्रिप्टोकरेंसी में ट्रेडिंग करने के लिए सिंगल-विंडो प्लेटफॉर्म के रूप में स्‍थापित किया गया था. साल 2020 में इसे रुपी-बेस्‍ड क्रिप्टो ट्रेडिंग के तौर पर आगे बढाया गया.

CoinSwitch ने एक ट्वीट में कहा कि वह CRE8 को पेश कर रहा है, जो देश का पहला रुपी-बेस्‍ड क्रिप्टो इंडेक्स है. एक वीडियो के जरिए CoinSwitch के को-फाउंडर और चीफ एग्‍जीक्‍यूटिव ऑफ‍िसर आशीष सिंघल ने बताया है कि क्‍यों यह इंडेक्‍स भारत में क्रिप्टो निवेशकों के लिए एक बड़ी बात है.

उन्‍होंने कहा कि CoinSwitch ने दो काम किए हैं. इसने क्रिप्टो इन्‍वेस्‍टमेंट को आसान बना दिया है. आज हम दूसरा कदम उठा रहे हैं, जिसकी वजह से क्रिप्टो की दुनिया में फैसला लेना आसान पहला क्रिप्टोक्यूरेंसी हो जाएगा.

Crypto Insider Trading Case: कॉइनबेस के पूर्व अधिकारी के भाई निखिल वाही ने कबूला आरोप, जानें पूरा मामला

क्रिप्टो

क्रिप्टोकरेंसी इनसाइडर ट्रेडिंग मामले में जुलाई में गिरफ्तार पहला क्रिप्टोक्यूरेंसी किए गए निखिल वाही ने अपना अपराध कबूल कर लिया है। जिसके बाद यूएस डिस्ट्रिक्ट जज लोरेट प्रेस्का ने उन्हें दोषी करार दिया। निखिल वाही क्रिप्टो एक्सचेंज कॉइनबेस पहला क्रिप्टोक्यूरेंसी ग्लोबल के पूर्व प्रोडक्ट मैनेजर इशान वाही के भाई हैं। उन्हेोंने अमेरिका की एक अदालत में कुबूल किया है कि वह इंसाइडर ट्रेडिंग में शामिल थे। गौरतलब है कि अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि यह क्रिप्टोकरेंसी से जुड़ा पहला इंसाइडर ट्रेडिंग का पहला मामला है।

विस्तार

क्रिप्टोकरेंसी इनसाइडर ट्रेडिंग मामले में जुलाई में गिरफ्तार किए गए निखिल वाही ने अपना अपराध कबूल कर लिया है। जिसके बाद यूएस डिस्ट्रिक्ट जज लोरेट प्रेस्का ने उन्हें दोषी करार दिया। निखिल वाही क्रिप्टो एक्सचेंज कॉइनबेस ग्लोबल के पूर्व प्रोडक्ट मैनेजर इशान वाही के भाई हैं। उन्हेोंने अमेरिका की एक अदालत में कुबूल किया है कि वह इंसाइडर ट्रेडिंग में शामिल थे। गौरतलब है कि अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि यह क्रिप्टोकरेंसी से जुड़ा पहला इंसाइडर ट्रेडिंग का पहला मामला है।

यूएस डिस्ट्रिक्ट जज लोरेट प्रेस्का की अदालत में वर्चुअल पेशी के दौरान निखिल पहला क्रिप्टोक्यूरेंसी ने कहा कि उन्होंने कॉइनबेस के डेटा से गोपनीय जानकारी हासिल कर खरीदारी की थी। इस मामले में अभियोजन पक्ष ने यह भी आरोप लगाया था कि इशान वाही ने अपने भाई और एक अन्य दोस्त समीर रमानी को उन डिजिटल एसेट्स के बारे में बताया था जो जल्दी कॉइनबेस पर ट्रेड के लिए आने वाली थीं। इन तीनों पर 15 लाख डॉलर (करीब 12 करोड़ रुपये) से ज्यादा का अवैध लाभ कमाने का आरोप है।

अब कीमतों को बिटकॉइन में बताया जा सकेगा

राष्ट्रपति बुकेले ने सोमवार को ऐलान किया था कि देश की कानूनी मुद्रा बन जाने के बाद इस पर कोई कैपिटल गेन्स टैक्स नहीं लगाया जाएगा. देश में क्रिप्टो एंटरप्रेन्योर को तुरंत स्थायी तौर पर रहने की अनुमति दी जाएगी. राष्ट्रपति के इस ऐलान के बाद अल-सल्वाडोर में प्रॉपर्टी की पूछताछ बढ़ गई. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि बिटकॉइन और अमेरिकी डॉलर के बीच एक्सचेंज रेट अब स्वतंत्र तौर पर स्थापित होने लगेंगे. कीमतों को बिटकॉइन में बताया जा सकेगा. बिटकॉइन में लेन-देन कैपिटल गेन्स टैक्स के दायरे में नहीं आएंगे. डॉलर में किए जाने वाले पेमेंट अब बिटकॉइन में भी किए जा सकेंगे.

The #BitcoinLaw has been approved by a supermajority in the Salvadoran Congress.

भारतीय मूल के ऋषि सुनक होंगे ब्रिटेन के अगले प्रधानमंत्री, 28 अक्टूबर को ले सकते हैं शपथ, ब्रिटेन की डगमगाती नाव को संभालने की चुनौती

रेटिंग: 4.29
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 608