ट्रेडिंग के अंदर कम समय अंतराल सम्मिलित होता है.

Crypto Trading : कैसे करते हैं क्रिप्टोकरेंसी में निवेश और कैसे होती है इसकी ट्रेडिंग, समझिए

स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करते समय इन कुछ बातों का ज़रूर रखें ध्यान

money

स्टॉक मार्केट में निवेश से मिलनेवाले ऊंचे रिटर्न्स की वजह से लोग हमेशा से ही स्टॉक मार्केट की ओर आकर्षित होते हैं, लेकिन इक्विटीज़ में पैस बनाना कभी-भी आसान नहीं होता. इसके लिए रिसर्च के साथ-साथ मार्केट की समझ होना भी ज़रूरी है, जिसके लिए बहुत धीरज और अनुशासन की ज़रूरत होती है.

नीचे हम कुछ ऐसे महत्वपूर्ण बिंदुओं के बारे में बता रहे हैं, जिनके बारे में ट्रेडिंग करने से पहले आपको ज़रूर ध्यान देना चाहिए:

money


1. ट्रेडिंग कॉस्ट
ट्रेडिंग कॉस्ट में ब्रोकरेज, टैक्स और मार्जिन फ़ंड कॉस्ट तीनों ही शामिल होते हैं. इन तीनों में से ब्रोकरेज का हिस्सा बड़ा होता है. यदि ब्रोकरेज की राशि में बचत की जा सके तो ट्रेडिंग कॉस्ट कम हो जाती है और लाभ बढ़ जाता है.
मंथली अनलिमिटेड ट्रेडिंग प्लान्स में ग्राहकों की ब्रोकरेज पर सबसे ज़्यादा बचत होती है. इस प्लान में ग्राहकों को एक सेग्मेंट के लिए अनलिमिटेड संख्या में ट्रेड्स के लिए एक निश्चित मासिक शुल्क देना होता है.ट्रेडिंग या निवेश
एक इन्ट्राडे ट्रेडर एक दिन में औसतन 20 ट्रेड्स करता है और 15 रु प्रति ट्रेड ब्रोकरेज के हिसाब से एक महीने में 6000 रुपए के ब्रोकरेज का भुगतान करता है. वहीं अनलिमिटेड ट्रेडिंग प्लान्स लगभग 899 रुपए प्रति माह पर ही मिल जाते हैं, जिससे आपकी बड़ी बचत होती है.

क्रिप्टोकरेंसी की ट्रेडिंग कैसे होती है?

इसके लिए आपको पहले ये जानना होगा कि यह बनता कैसे है. क्रिप्टो जेनरेट करने की प्रक्रिया को माइनिंग कहते हैं. और ये काम बहुत ही उत्कृष्ट कंप्यूटर्स में जटिल क्रिप्टोग्राफिक इक्वेशन्स यानी समीकरणों को हल करके किया जाता है. इसके बदले में यूजर को रिवॉर्ड के रूप में कॉइन मिलती है. इसके बाद इसे उस कॉइन के एक्सचेंज पर बेचा जाता है.

bitcoins 650

कौन कर सकता है ट्रेडिंग?

ऐसे लोग जो कंप्यूटर या टेक सैवी नहीं हैं, वो कैसे क्रिप्टो निवेश की दुनिया में प्रवेश कर सकते हैं? ऐसा जरूरी नहीं है कि हर निवेशक क्रिप्टो माइनिंग करता है. अधिकतर निवेशक बाजार में पहले से मौजूद कॉइन्स या टोकन्स में ट्रेडिंग करते हैं. क्रिप्टो इन्वेस्टर बनने के लिए माइनर बनना जरूरी नहीं है. आप असली पैसों से एक्सचेंज पर मौजूद हजारों कॉइन्स और टोकन्स में से कोई भी खरीद सकते हैं. भारत में ऐसे बहुत सारे एक्सचेंज हैं तो कम फीस या कमीशन में ये सुविधा देते हैं. लेकिन यह जानना जरूरी है कि क्रिप्टो में निवेश जोखिम भरा है और मार्केट कभी-कभी जबरदस्त उतार-चढ़ाव देखता है. इसलिए फाइनेंशियल एक्सपर्ट्स निवेशकों से एक ही बार में बाजार में पूरी तरह घुसने की बजाय रिस्क को झेलने की क्षमता ट्रेडिंग या निवेश रखने की सलाह देते हैं.

यह समझना भी जरूरी है ट्रेडिंग या निवेश कि सिक्योर इन्वेस्टमेंट, सेफ इन्वेस्टमेंट नहीं होता है. यानी कि आपका निवेश ब्लॉकचेन में तो सुरक्षित रहेगा लेकिन बाजार में उतार-चढ़ाव का असर इसपर होगा ही होगा, इसलिए निवेशकों को पैसा लगाने से पहले जरूरी रिसर्च करना चाहिए.

कितनी सुरक्षित हैं क्रिप्टोकरेंसी और क्या है इन्हें लेकर धारणा

अगर क्रिप्टोकरेंसी की सिक्योरिटी ट्रेडिंग या निवेश की बात करें तो यह काफी सुरक्षित होती है. एन्क्रिप्शन टेक्नीक- क्रिप्टोग्राफी- से इन्हें सुरक्षित रखा जाता है. वहीं क्रिप्टो वॉलेट्स भी होते हैं, जहां आपको हॉट, कोल्ड और पेपर वॉलेट्स मिलते हैं. क्रिप्टो के ट्रांजैक्शन में कोई बिचौलिया या मध्यस्थ शामिल नहीं होता है, जो अच्छी चीज है. अगर इन्हें अपनाने की बात करें तो कुछ देश और कई बड़ी कंपनियां ट्रेडिंग या निवेश हैं, जो क्रिप्टो कॉइन्स और टोकन्स को मान्यता देने पर विचार कर रही हैं. अल सल्वाडोर ने तो इसे लीगल टेंडर बनाने की घोषणा कर दी है. अगर भारत की बात करें तो डेकोर ब्रांड Rug Republic ने कुछ हफ्ते पहले ही क्रिप्टोकरेंसी में पेमेंट लेने ी घोषणा कर दी है.

पढ़ें देश और दुनिया की ताज़ा ख़बरें अब हिन्दी में (Hindi News) | शिक्षा समाचार (Education News), शहर (City News), बॉलीवुड, चुनाव 2022 और राजनीति के समाचार at NDTV.in

ट्रेडिंग और निवेश के बीच अंतर

ट्रेडिंग और निवेश के बीच मुख्य अंतर समय अवधि का होता है. ट्रेडिंग में निवेश की तुलना में समय अवधि कम होती है. साथ ही हम आपको बता दें कि ट्रेडिंग कई प्रकार की होती हैं, और अधिक से अधिक दो-तीन सप्ताह के लिए अपनी स्थित को खुला रखती हैं.

जबकि निवेश में ऐसा कुछ नहीं होता निवेश उन लोगों द्वारा किया जाता है, जो अपनी सिक्‍योरिटीज़ को अधिक वर्षो तक करना चाहते है.

जोखिम का स्‍तर

जोखिम का स्तर एक ऐसा अंतर है, जो ट्रेडिंग और निवेश में पैसे के प्रबंधन की शैली को निर्धारित करने में आपकी सहायता कर सकता है, ट्रेडिंग में उच्च जोखिम सम्मिलित होता है क्योंकि यह अल्पकालिक होता है, और अल्पकालिक के लिए बाजार में गिरावट आपकी पूंजी को डूबा सकती है.

और अगर हम बात करें निवेश की तो निवेश कम जोखिम भरा हुआ होता है, और इसके अतिरिक्त अल्पकालिक प्रवृत्ति परिवर्तन शायद ही आपके दीर्घकालिक निवेश को प्रभावित करते हैं.

रिटर्न

ट्रेडिंग में तुरंत रिटर्न सम्मिलित होता है, जैसे ही आप स्थित में अंदर और बाहर होते हैं, ठीक उसी प्रकार आप मार्केट में ट्रेडिंग या निवेश अधिक महत्‍वपूर्ण उतार-चढ़ाव से दूर हो जाते हैं, और अगर हम बात करें, निवेश की तो निवेश बेहतर रिटर्न दे सकता है क्योंकि आप लंबी अवधि के लिए निवेशित रहते हैं, और बाजार में उतार-चढ़ाव से अधिक लाभ प्राप्त करते हैं.

ट्रेडिंग और निवेश में शामिल विश्लेषण एक मुख्य अंतर होता है, ट्रेडर्स अक्सर तकनीकी विश्लेषण और संकेतकों पर आधारित होते हैं, जबकि निवेशक निर्णय लेने के लिए मूलभूत विश्लेषण का उपयोग करते हैं.

टेक्निकल ट्रेडिंग चार्ट पैटर्न और विभिन्न मार्केट एनालिसिस टूल का लाभ उठाते हैं, जो उन्हें तुरंत मार्केट की गतिविधियों को कैप्‍चर करने और सिक्‍योरिटीज़ को खरीदने और बेचने में सहायता करते हैं, निवेशक स्टॉक को खरीदने और बेचने का निर्णय लेने के लिए कम्पनी के बुनियादी प्रदर्शन बैलेंस ट्रेडिंग या निवेश शीट्स, एसेट्स और अन्य बुनियादी बातों का उपयोग करते हैं.

निवेश के अंतर्गत अच्छा रिटर्न प्राप्त करने के लिए महत्वपूर्ण निवेश करने की आवश्यकता होती है.

निवेश के अंतर्गत पैसे को बढ़ाने के लिए आपको अत्यधिक धैर्य रखने की आवश्यकता होती है.

निवेश में छोटे पूंजी के साथ रिटर्न शायद अच्छा नहीं हो सकता है, परंतु निष्क्रिय आय पाने के लिए आपको काफी मात्रा में धन निवेश करने की आवश्यकता होती है.

रेटिंग: 4.62
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 604