गैर कानूनी ट्रेडिंग अप्लीकेशन l Unlegal Trading Application in India

गैर कानूनी ट्रेडिंग अप्लीकेशन l Unlegal Trading Application in India

चलिए अब जानते हैं गैर कानूनी ट्रेडिंग अप्लीकेशन के लिए बनाया गया नया कानून किया है और इसके फायदे किया है

आज के समय में हर दिन बहुत सारे लोग फॉरेक्स ट्रेडिंग के जरिए पैसे कमाने के चकर में fraud के शिकार हो रहे हैं असल में फॉरेक्स ट्रेडिंग कंपनीया विज्ञापन में दिखाती है कैसे बहुत सारे लोग हर दिन फॉरेक्स ट्रेडिंग के जरिए घर बैठे लाखों रुपए कमा रहे हैं

लेकिन असल में फॉरेक्स ट्रेडिंग के जरिए ना तो कोई भी व्यक्ति लाखों रुपए कमा रहा है और ना ही कोई भी व्यक्ति आज तक अमीर हुआ है

लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है के आप ट्रेडिंग के जरिए पैसे कमा नही सकते हैं आप ट्रेडिंग के जरिए पैसा कमा सकते हैं लेकिन इसके लिए आपके पास लीगल ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म होना बहुत जरूरी है

प्ले स्टोर पर ऐसी बहुत सारी unlegal Trading App मोजूद है जो हर किसी को जल्द से जल्द अमीर बना देने का दावा करते है और जिन लोगों को सही जानकारी नहीं होती है वह लोग इन अप्लीकेशन का प्रयोग करना शुरू कर देते हैं

अमीर बनने के चक्कर मेहनत से कमाया हुआ पैसा भी गवा बैठते हैं ऐसे ही हर दिन भारत में बहुत सारे ऐसे केस सामने आते हैं लेकिन अब से RBI ने नोटिस जारी किया है

जिसमें RBI ने कहा गया है कि अब से किसी भी अन लीगल ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के उपयोगकर्ताओं पर अब से मुकदमा चलाया जा सकता है और जुर्माना लगाया जा सकता है

अवैध ऐप्स की लंबी सूची में ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म OctaFX भी शामिल है जो इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) टीम दिल्ली कैपिटल्स का आधिकारिक ट्रेडिंग sponsor है

भारतीय रिजर्व बैंक RBI ने इस सप्ताह अनधिकृत इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर विदेशी मुद्रा लेनदेन में शामिल संस्थाओं की एक अलर्ट सूची जारी की

RBI ने देखा कि बहुत सारे ट्रेडिंग अप्लीकेशन भारतीय लोगों को ऊंचे रिटर्न देने का वादा करके भोले भाले लोगों को लुभाते हैं

हर दिन ना जाने कितने ही भारतीय लोग ट्रेडिंग के जरिए पैसा कमाने के चकर में मेहनत से कमाया हुआ पैसा भी गवा बैठते हैं

जिससे देखते हुए आरबीआई ने कहा कि इस प्रकार के सभी प्रतिबंधित प्लेटफॉर्म के उपयोगकर्ताओं पर अब से मुकदमा चलाया जा सकता है

अवैध ऐप्स की लंबी सूची में OctaFX शामिल है जो इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) टीम दिल्ली कैपिटल्स का आधिकारिक ट्रेडिंग प्रायोजक (sponsor) है

RBI ने कहा कि इस सूची में नहीं आने वाली इकाई को केंद्रीय बैंक द्वारा अधिकृत ( authorized ) नहीं माना जाना चाहिए

जबकि अनुमत विदेशी मुद्रा लेनदेन इलेक्ट्रॉनिक रूप से उपयोग किए जा सकते हैं, उन्हें केवल RBI या मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंजों जैसे नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड, बीएसई लिमिटेड और मेट्रोपॉलिटन स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड द्वारा अधिकृत ईटीपी पर ही किया जाना चाहिए

RBI ने साल (2022) फरवरी में RBI ने लोगों को ऐसी संस्थाओं के शिकार होने की बढ़ती FXTM ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म रिपोर्टों के बाद unauthorized प्लेटफार्मों पर विदेशी मुद्रा व्यापार के खिलाफ चेतावनी दी थी

आरबीआई ने कहा है unauthorized इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म (ईटीपी) के अलावा अन्य उद्देश्यों के लिए लेनदेन करने वाली संस्थाओं को विदेशी मुद्रा Act के तहत सख्त कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है

हालांकि नियामक ने उस समय इनमें से किसी भी संस्था का नाम नहीं लिया है लेकिन इन संस्थाओं के FXTM ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म प्राधिकरण पर स्पष्टीकरण मांगने के लिए कई संदेश प्राप्त हुए

जिसने अब आरबीआई को अलर्ट सूची के साथ आने के लिए मजबूर कर दिया है अलर्ट सूची में शामिल प्लेटफॉर्म न तो विदेशी currency management act 1999 (फेमा) के तहत विदेशी currency में सौदा करने के लिए authorized हैं

और न ही विदेशी currency लेनदेन के लिए इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म संचालित करने के लिए authorized हैं

यहां पर कुछ unauthorised फॉरेक्स ट्रेडिंग ऐप्स और वेबसाइटों की सूची है
1.Alpari
2.AnyFX
3.Ava Trade
4.Binomo
5.e Toro
6.Excess
7.Expert Option
8.FBS
9.FinFxPro
10.Forex
11.Forex4money
12.Foxorex
13.FTMO
14.FVP Trade
15.FXPrimus
16.FXStreet
17.FXCm
18.FxNice
19.FXTM
20.HotFores
21.ibell Markets
22.IC Markets
23.iFOREX
24.IG Markets
25.IQ Option
26.NTS Forex Trading
27.Octa FX
28.Olymp Trade
29.TD Ameritrade
30.TP Global FX
31.Trade Sight FX
32.Urban Forex

आज आपने किया सीखा
हमने इस लेख में आपको बताया गैर कानूनी ट्रेडिंग अप्लीकेशन पर बनाया गया RBI द्वारा नया कानून के बारे आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी

हम उम्मीद करते हैं आपको हमारे द्वारा मिली यह जानकारी बहुत अच्छी लगी होगी अगर आपको हमारी यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो कृपया आप इसे शेयर जरुर करे पोस्ट को अंत तक पढ़ने के लिए आप का धन्यवाद

RBI ने जारी की अवैध फॉरेक्‍स ट्रेडिंग ऐप और वेबसाइटों की अलर्ट लिस्‍ट

भारतीय रिजर्व बैंक RBI ने इस सप्ताह अवैध इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर विदेशी मुद्रा लेनदेन में शामिल संस्थाओं की एक अलर्ट सूची जारी की। इसमें एक ऐप ऐसा भी है जो IPL टीम दिल्‍ली कैपिटल को स्‍पॉन्‍सर करता है। यह अवैध संस्‍था या ऐप लोगों से हाई रिटर्न का वादा करके लुभाते हैं। आरबीआई ने कहा कि इन अवैध प्‍लेटफॉर्म के यूजर्स पर मुकद्दमा चलाया जा सकता है।

अवैध ऐप्स की लंबी सूची में OctaFX शामिल है जो इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) टीम दिल्ली कैपिटल्स का आधिकारिक ट्रेडिंग स्‍पॉन्‍सर है। आरबीआई ने इन ऐप को लेकर लोगों को चेताया है और उपयोग नहीं करने की सलाह दी है, वरना यूजर्स पर कार्रवाई भी की जा सकती है। यहां अवैध फॉरेक्स ट्रेडिंग ऐप्स और वेबसाइटों की पूरी सूची है।

अवैध फॉरेक्‍स ट्रेडिंग ऐप

Alpari, AnyFX, Ava Trade, Binomo, e Toro, Exness, Expert Option, FBS, FinFxPro, Forex.com, Forex4money, Foxorex, FTMO, FVP Trade, FXPrimus, FXStreet, FXCm, FxNice, FXTM, HotFores, ibell Markets, IC Markets, iFOREX, IG Market, IQ Option, NTS Forex Trading, Octa FX, Olymp Trade, TD Ameritrade, TP Global FX, Trade Sight FX, Urban Forex, Xm और XTB है।

आरबीआई ने यह भी कहा कि इस लिस्‍ट में नहीं आने वाले यूनिट को केंद्रीय बैंक की ओर से रजिस्‍टर्ड नहीं माना जाना चाहिए। भारतीय रिजर्व बैंक के मानदंडों के अनुसार लोगों को (विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम, 1999) के अनुसार केवल रजिस्‍टर्ड संस्‍थाओं के साथ विदेशी मुद्रा लेनदेन करना चाहिए।

आरबीआई ने क्‍या कहा

आरबीआई के अनुसार जबकि अनुमत विदेशी मुद्रा लेनदेन इलेक्ट्रॉनिक रूप से किए जा सकते हैं, उन्हें केवल आरबीआई या मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंजों जैसे नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड, बीएसई लिमिटेड और मेट्रोपॉलिटन स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड द्वारा इस उद्देश्य के लिए अधिकृत ईटीपी पर ही किया जाना चाहिए।

BREAKING NEWS | RBI ने विदेशी मुद्रा ऐप्स की अलर्ट सूची जारी की

RBI ने विदेशी मुद्रा ऐप्स की अलर्ट सूची जारी की: इस सूची में अनधिकृत ऐप्स शामिल हैं जिनमें बहुत प्रसिद्ध OctaFX भी शामिल है जो कि IPL टीम दिल्ली कैपिटल्स का आधिकारिक ट्रेडिंग प्रायोजक है| भारतीय रिजर्व बैंक (RBI): भारत में विदेशी मुद्रा बाजार को नियंत्रित करने वाले ने अनधिकृत इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर विदेशी मुद्रा लेनदेन में शामिल विदेशी मुद्रा दलालों की एक अलर्ट सूची जारी की है।

भारतीय रिज़र्व बैंक ने देखा कि इतने सारे ब्रोकर प्लेटफ़ॉर्म उपयोगकर्ताओं को उच्च रिटर्न जैसे आकर्षक ऑफ़र के साथ आकर्षित करते हैं। आगे रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया इन प्लेटफॉर्म्स के यूजर्स को एक धमकी भरी खबर देता है। आरबीआई ने कहा कि अब से इन प्रतिबंधित प्लेटफॉर्म के यूजर्स पर मुकदमा चलाया जा सकता है।

BREAKING NEWS | RBI ने विदेशी मुद्रा ऐप्स की अलर्ट सूची जारी की

इस सूची में 34 अवैध ऐप्स, OctaFX सहित फॉरेक्स प्लेटफॉर्म शामिल हैं, जो इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) टीम दिल्ली कैपिटल्स का आधिकारिक प्रायोजक है।

RBI issues alert list: Declares these 34 forex trading Platforms Unauthorized.

👉 Here's a full list of unauthorized forex trading apps and websites

इसके अलावा आरबीआई ने कहा कि अगर कोई ऐप या ब्रोकर प्लेटफॉर्म इस सूची में शामिल FXTM ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म नहीं है तो उसे भारत के शीर्ष बैंक द्वारा अधिकृत नहीं माना जाना चाहिए।

भारतीय रिजर्व बैंक के नियमों के अनुसार, निवासी व्यक्ति को अनुमत उद्देश्यों और अधिकृत फर्म के साथ विदेशी मुद्रा लेनदेन करना चाहिए, यह फेमा (विदेशी मुद्रा विनिमय प्रबंधन अधिनियम, 1999) के नियमों और विनियमों के अनुसार किया जाना चाहिए।

अगर कोई विदेशी मुद्रा लेनदेन करना चाहता है; ये इलेक्ट्रॉनिक रूप FXTM ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म से किया जा सकता है। ऐसा करते समय, भारत के एनएसई (नेशनल स्टॉक एक्सचेंज), बीएसई (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज), और एमएसई (मेट्रोपॉलिटन स्टॉक एक्सचेंज) जैसे आरबीआई द्वारा मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंजों के साथ लेनदेन किया जाना चाहिए।

आरबीआई ने विदेशी मुद्रा व्यापार पर प्रतिबंध लगाया? भारत में विदेशी मुद्रा व्यापार प्रतिबंध?

सवाल उठता है कि भारत में फॉरेक्स ट्रेडिंग के प्लेटफॉर्म पर प्रतिबंध क्यों?

इसकी शुरुआत इसी साल फरवरी से हुई है, जब आरबीआई ने इतने लोगों को ठगते देखा था। उस समय आरबीआई ने ऐसे प्लेटफॉर्मों को चेतावनी दी थी जिनमें अनधिकृत तरीके से विदेशी मुद्रा व्यापार शामिल है।

आरबीआई पहले ही ऐसी संस्थाओं को यह कहकर चेतावनी दे चुका है कि उन्हें उनके खिलाफ कुछ कड़ी दंडात्मक कार्रवाई करने की आवश्यकता है जो विदेशी मुद्रा विनिमय प्रबंधन अधिनियम (फेमा) या इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म (ईटीपी) के तहत विनियमित नहीं हैं।

उस दौरान भारतीय रिजर्व बैंक ने अनधिकृत संस्थाओं की सूची जारी नहीं की लेकिन आरबीआई ने उनसे स्पष्ट रूप से स्पष्टीकरण मांगा।

इसके कारण आरबीआई ने 34 अनधिकृत विदेशी मुद्रा दलालों की सूची जारी की।

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने इन 34 संस्थाओं को चेतावनी दी और दावा किया कि वे न तो FEMA अधिनियम, 1999 के तहत विदेशी मुद्रा में सौदा करने के लिए अधिकृत हैं और न ही इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के रूप में।

अगर आपने भारत में विदेशी मुद्रा व्यापार प्रतिबंध के बारे में खबर सुनी है, तो यहां आएं और पूरी सच्चाई जानें कि आरबीआई ने इन 34 संस्थाओं पर क्यों अलर्ट किया। आरबीआई ने समय-समय पर इन संस्थाओं का अवलोकन किया और लोगों और उनके पैसे की सुरक्षा के लिए आरबीआई ने ऐसा किया।

ऐसा करके आरबीआई दूसरे प्लेटफॉर्म्स या वेबऐप्स को कड़ा संदेश दे रहा है जो किसी को भी ठगने की फ़िराक में रहते है |

रेटिंग: 4.66
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 264