Support and Resistance

शेयर बाजार में चाहते हैं पैसा कमाना तो इन 5 पसंदीदा ट्रेडिंग रणनीतियों के बारे में आपको होगा जानना

ट्रेडर्स चाहें Swing Trading Strategy उपयोग करने का क्या फायदा होता है तो हर प्रकार की ट्रेडिंग रणनीति से जुड़े जोखिम और लागत को समझकर ट्रेडिंग में रणनीतियों के संयोजन का उपयोग भी कर सकते हैं

ट्रेडिंग का मतलब सिक्टोरिटीज को खरीदना और बेचना होता है। ट्रेडिंग भी कई प्रकार की होती हैं। एक दिन से लेकर सालों के लंबे अंतराल के लिए भी ट्रेडिंग की जाती है। इसके साथ ही अलग-अलग बाजारों के माहौल और वहां मौजूद जोखिम से जुड़ी विभिन्न ट्रेडिंग रणनीतियां (trading strategies) शेयरों में कारोबार करने के समय अपनाई जाती हैं।

यहां पर हम कुछ ट्रेडिंग रणनीतियों पर चर्चा कर रहे हैं जो बाकी रणनीतियों में से सबसे ज्यादा लोकप्रिय हैं। ये रणनीतियां निवेशकों को तर्कसंगत निवेश निर्णय लेने में मदद कर सकती हैं।

इंट्राडे ट्रेडिंग (Intraday Trading)

संबंधित खबरें

Nifty में शामिल स्टॉक्स का गुरुवार को बदलेगा वेटेज, इन शेयरों में आ सकता है करोड़ों रुपये का निवेश

Paytm, Nykaa, Zomato, Delhivery और PB Fintech: साल 2022 में इन कंपनियों ने निवेशकों के ₹2 लाख करोड़ रुपये डुबोए

फ्लैट बाजार में ₹70000 करोड़ बढ़ी निवेशकों की संपत्ति

इंट्राडे ट्रेडिंग जिसे डे ट्रेडिंग के रूप में भी जाना जाता है। ये ऐसी ट्रेडिंग रणनीति है जिसमें निवेशक एक ही दिन में शेयरों को खरीदते और बेचते हैं। वे शेयर बाजार के बंद होने के समय से पहले ट्रेडिंग बंद कर देते हैं। एक ही दिन में वे मुनाफा और घाटा बुक करते हैं।

निवेशक इन शेयरों में एक दिन में कुछ सेकंड, घंटे के लिए या इसमें दिन भर में कई बार ट्रेड ले सकते हैं। इसलिए इंट्राडे एक अत्यधिक वोलाटाइल ट्रेडिंग रणनीति मानी जाती और इसके लिए तेजी से निर्णय लेना होता है।

पोजीशनल ट्रेडिंग (Positional Trading)

Swing Trading क्या है? - Swing Trading In Hindi

Swing Trading एक ऐसी ट्रेडिंग रणनीति है। जहा पर ट्रेडर्स शेयर को एक दिन से ज्यादा के लिए खरीदते हैं और थोड़े समय तक होल्ड करने के बाद बेच देते हैं। ट्रेडर्स शेयर को थोड़े दिनों तक इसी उम्मीद से होल्ड करते हैं ताकि उन्हें कुछ प्रॉफिट हो सके। आमतौर पर यह समय कुछ दिन या कुछ हफ्ते हो सकते हैं।

Swing Traders किसी भी स्टॉक का संभावित स्विंग का एक हिस्से को कैप्चर करने की कोशिश करता है। यानी मतलब यह हुआ कि एक स्विंग ट्रेडर बाजार या किसी भी स्टॉक के प्राइस का एक तरफा मूवमेंट को कैप्चर करने की कोशिश करता है। बाजार या स्टॉक का एक तरफा मूवमेंट को इसी उम्मीद से कैप्चर करने की कोशिश करता है कि उसे कुछ परसेंट का प्रॉफिट होगा। लेकिन अगर बाजार ठीक उसके उलट चला जाता है तो स्विंग ट्रेडर्स अपने नुकसान Swing Trading Strategy उपयोग करने का क्या फायदा होता है को बुक करने के बाद मार्केट से बाहर निकल जाता है। स्विंग ट्रेडिंग में हासिल किए गए छोटे छोटे मूवमेंट का लाभ वार्षिक में एक अच्छा रिटर्न बन जाता है।

Swing Trading कैसे काम करती है?

Swing Trader किसी भी स्टॉक को खरीदने से पहले मार्केट का ट्रेंड, शेयर कि कीमत में उतार-चढ़ाव, ट्रेडिंग चार्ट में बनने वाले पैटर्न का विश्लेषण करता है। आमतौर पर swing traders लार्ज-कैप शेयरों यानी कि उन शेयरों पर विश्लेषण करते हैं जिसमें ट्रेडिंग अधिक होती है।

अन्य प्रकार के ट्रेडिंग से ज्यादा swing trading में risk ज्यादा होता है। इसमें आमतौर से gap risk शामिल होता है। यदि मार्केट के बंद होने के बाद कोई अच्छी खबर आती हैं तो स्टॉक के प्राइस मार्केट खुलने के बाद अचानक बढ़ जाते हैं। ठीक इसका उल्टा भी हो सकता है। मार्केट के बंद होने के बाद कोई बुरी खबर आती हैं। तो मार्केट खुलने के बाद स्टॉक के प्राइस में भारी गैप डाउन देखने को मिलता हैं। इस तरह के रिस्क को overnight risk कहा जाता है।

स्विंग ट्रेडिंग के फायदे क्या है? - Advantages Of Swing Trading In Hindi

अन्य ट्रेडिंग प्रकार की तरह swing trading के भी कुछ फायदे और नुकसान होते है। आइए पहले स्विंग ट्रेडिंग के advantages जानते हैं।

1. स्विंग ट्रेडिंग में स्टॉक को कुछ दिनों या कुछ हफ्ते तक होल्ड किया जाता है। इसलिए Intraday के मुकाबले लाइव मार्केट में ज्यादा समय रहने की जरूरत नहीं होती है।

2. Swing Trading, ट्रेडर्स को बाजार के sideways होने पर एक अच्छा रिटर्न देता है।

3. स्विंग ट्रेडिंग उन लोगो के लिए सबसे अच्छा है जो जॉब या बिज़नेस करते हैं। यानी कि स्विंग ट्रेडिंग को पार्ट टाइम किया जा सकता है।

4. Intraday के मुकाबले, स्विंग ट्रेडिंग में स्ट्रेस लेवेल कम होता है।

5. स्विंग ट्रेडिंग में छोटे छोटे रिटर्न्स वार्षिक में एक अच्छा रिटर्न बन जाता है।

6. Intraday के मुकाबले स्विंग ट्रेडिंग आसान होती हैं। आपको सिर्फ टेक्निकल एनालिसिस आना चाहिए।

स्विंग ट्रेडिंग के नुकसान क्या है? - Disadvantages Of Swing Trading In Hindi

1. स्विंग ट्रेडिंग में overnight और वीकेंड रिस्क शामिल रहेता है।

2. मार्केट का अगर किसी तरह से अचानक ट्रेंड बदल जाता है तो यहां काफी नुकसान हो सकता है।

3. स्विंग ट्रेडिंग में गैप रिस्क शामिल रहता है।

4. डे ट्रेडिंग के मुकाबले स्विंग ट्रेडिंग में रिटर्न्स कम मिलता है।

15% स्विंग ट्रेडिंग से हर महीने कमाए।

स्विंग ट्रेडिंग क्या हैं ? | What is Swing Trading in Hindi

स्विंग ट्रेडिंग के लिए शेयर चुनते समय हमेशा ध्यान में रहे की उस शेयर में ये ३ चीजे हो.

याने के शेयर में एक अच्छी चाल हो ऊपर की तरफ या फिर निचे, जिसकी मदत से हम उस शेयर में ट्रेड कर सके।

याने के शेयर में buyers और sellers की संख्या ज्यादा हो, ताकि शेयर खरीदने में और बेचने में आसानी हो।

याने के जिस शेयर में आप स्विंग ट्रेडिंग करना चाहते हो उस कंपनी के fundamentals अच्छे हो।

3 Swing Trading Strategy In Hindi

यहाँ पर ३ स्ट्रेटेजी हैं जो की आप स्विंग ट्रडिंग करते समय इनका उपयोग कर सकते हैं।

स्विंग ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी मूविंग एवरेज से।

  • इस strategy में आप छाए तो Exponential Moving Average – EMA का इस्तेमाल कर सकते हैं या फिर Simple Moving Average – SMA का।
  • Moving Average प्राइस जो मूव करता हैं उसका एवरेज होता हैं जैसे की ९,२१,५०,१००,२०० दिनों का।
  • Moving Average एक ट्रेंड फॉलोविंग इंडिकेटर हैं। जिससे हमें पता चलता हैं की मार्किट या शेयर की चाल क्या हैं।
  • अगर शेयर बाजार Uptrend या Downtrend में हो तो ही आप इस Moving Average स्विंग ट्रेडिंग स्ट्रेटर्जी का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • मूविंग एवरेज से स्विंग ट्रेडिंग करने के लिए आप एक बार ऊपर दिए गए चित्र को ध्यान से देखे।
  • ऊपर दिए गए चित्र में आप देख सकते हैं की जो लाल रेखा हैं वो 50 Day moving average हैं और जो नीली रेखा हैं 21 day Moving Average हैं।
  • जब 21 day Moving Average लाल रेखा के ऊपर जाती हैं तब हम शेयर को buy करते हैं और नीली रेखा 50 Day moving average के निचे जाती हैं तो हम शेयर Sell करते हैं।
  • आप जो चाहे उस दिन की मूविंग एवरेज का इस्तेमाल कर सकते हैं।

निष्कर्ष

आशा हैं की आप को स्विंग ट्रेडिंग क्या हैं ? उसके फायदे, स्विंग ट्रेडिंग के कुछ स्ट्रेटेजी इत्यादि जान पाए होंगे।

Swing Trading की practice करने के लिए आप Tradingview.com पर जा सकते हैं।

अगर आप को यह जानकारी पसंद आयी हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर कीजिए और कमेंट करके हमें अपना Feedback दे।

Swing Trading Strategies PDF

आप ऊपर दिए गए Swing Trading Strategies का PDF हिंदी में download कर सकते हैं।

स्विंग ट्रेडिंग क्या हैं ?

अगर किसी शेयर को खरीद के उसे १ दिन से १ महीने तक हम ट्रेड करते हैं तो उसे हम swing trading कहते हैं।

स्विंग ट्रेडिंग के लिए कोनसा time frame चुने ?

स्विंग ट्रेडिंग करने के लिए आप ३० मिनट से लेके ४ घंटे time frame देख सकते हैं।

Swing trading में कितने return की अपेक्षा करे ?

५ % से १५ % आने के बाद आप अपना प्रॉफिट बुक कर ले।

स्विंग ट्रेडिंग शेयर कैसे चुने ?

स्विंग ट्रेडिंग के लिए शेयर के Volatility, Liquidity, Fundamental अच्छे होने चाहिए।

Swing Trading क्या है?

Swing Trading कुछ ही दिन की लिए की गई होल्डिंग होती है.जैसे15 से 20 दिन के लिए. किसी स्टॉक को होल्ड करके रखना और प्रॉफ़िट होने पर बेच देना Swing Trading कहलाता है. Swing Trading एक सबसे लोकप्रिय strategy है. जिसमें simple Moving Average का इस्तेमाल 10 या फिर 20 दिनों के वैल्यू डेटा को समझने के लिए किया जाता है.साधारण भाषा में समझें तो Swing Trading डिलीवरी ट्रेडिंग का एक छोटा भाग है, जो कुछ ही टाइम पीरियड के लिए होल्ड किया जाता है.डे ट्रेडिंग और ज्यादा समय के बीच की ट्रेडिंग में Swing Trading की अपनी दुनिया है. स्विंग ट्रेड्स कुछ दिनों से लेकर कुछ हफ्तों तक कहीं भी ट्रेडिंग कर सकते है. Swing Trading करने वाले कई दिनों के चार्ट पैटर्न की तलाश में रहते हैं, जिससे की वो कम समय में अधिक प्रॉफिट कमा सकें. देखा जाए तो डे ट्रेडिंग से Swing Trading काफी बेहतर है.

Swing Trader कौन हैं?

Swing Trader एक ऐसे ट्रेडर हैं,जो कई दिन या फिर कई हफ्तों के अंदर ट्रेड करते हैं. और वो अक्सर चार घंटे या फिर एक दिन के चार्ट पर काम करते हैं. और इस ही पर एनालिसिस करते हैं.आपको बता दे की एक Swing Trader ज़्यादा टाइम के लिए बहुत कम ट्रेड करते हैं.साधारण भाषा में कहें तो Swing Trader कम समय और limit प्रॉफिट कमाने की कोशिश करते हैं.

Swing Trading करने के कईं फायदे खासकर नए ट्रेडर्स के लिए है. Swing Trading का मतलब मार्किट में ऊप्पर निचे होने के बाद भी आपको स्टॉक या फिर इंडेक्स की सही डायरेक्शन का पता लगवाने में मदद करना होता है.जब एक डे ट्रेडर अपनी पोजीशन कुछ ही मिनटो या कुछ घंटो तक ही रखता है, तो वहीं एक Swing Trader अपनी पोजीशन 24 घंटे से ले कर कई हफ्तों तक होल्ड करके रख सकता है. और ऐसे मे बड़े टाइम फ्रेम में वोलैटिलिटी भी बहुत कम हो जाती है. और प्रॉफिट होने की सम्भावना भी काफी ज्यादा होती है. जिसकी वजह से अधिकतर लोग डे ट्रेडिंग की बजाय Swing Trading करना पसंद करते हैं. Swing Trading टेक्निकल इंडीकेटर्स पर डिपेंड होती है. टेक्निकल इंडीकेटर्स का ज्यादतर काम मार्किट में रिस्क फैक्टर को कम करना होता है. और मार्किट में उतार-चढ़ाव होने के बावजूद आपको शेयर्स या इंडेक्स की सही दिशा दिखाना होता है.

Swing Trading से जुड़े कुछ आवश्यक नियम

Swing Trading में अक्सर उपयोग किए जाने वाले शब्दों में Entry Point, Exit Point, & Stoploss शामिल हैं. जिस जगह पर ट्रेडर अलग अलग टेक्निकल इंडिकेटर की मदद से Buy करते है,उसे एंट्री प्‍वाइंट कहते है.सदैव अपना ट्रेडिंग प्लान तैयार रखें. बिज़नेस की कैपेसिटी को ज्यादा करने के लिए ट्रेडिंग को एक बिज़नेस की तरह समझे.नई टेक्नोलॉजी Swing Trading Strategy उपयोग करने का क्या फायदा होता है का पूरा फायदा उठाएं. कंजर्वेटिव इन्वेस्ट स्ट्रेटेजी का पालन करें.एक स्टूडेंट की तरह ही स्टॉक बाजार को सीखें और समझें. ट्रेडिंग करते हुए रिस्क पर ज़रूर ध्यान दे.एक सही ट्रेडिंग कार्य प्रणाली चुने.

कभी भी स्टॉप लॉस को इगनोर न करें. जब भी आप अपनी पोजीशन को निकालना चाहते हैं तो उससे पहले मार्किट की डायरेक्शन ज़रूर देख लें.अगर अपने स्विंग ट्रेड ली है तो बिच बिच में उसके चार्ट की एनालिसिस ज़रूर करें. स्विंग ट्रेड करते वक़्त अपने इमोशंस को काबू में ज़रूर रखें

निष्कर्ष

स्विंग ट्रेडर्स कईं तरह की Strategies का इस्तेमाल करते हैं यह Strategies आपको एक मजबूत नींव रखने में हेल्प करेंगी।

अगर आप नई-नई Strategies या फिर Technical and Fundamental सीखना चाहते हैं. तो हमें CONTACT 9897563039 करें हम आपको बेसिक से लेकर पूरा टेक्निकल फंडामेंटल और डेटा एनालिसिस करना सीखाते हैं.

Best VWAP Intraday Strategy कैसे उपयोग करें?

इस ब्लॉग में VWAP Intraday Strategy पर प्रकाश डालेंगे। जो हमारे शिक्षार्थियों को शेयर बाजार में लाभ प्राप्त करने में मदद कर सकती हैं। शेयर बाजारों में स्थिति बनाए रखने के लिए धैर्य और उचित तकनीक की आवश्यकता होती है।

लेकिन कभी-कभी लोग अपनी भावनाओं को नियंत्रित नहीं कर पाते हैं। जिसके कारण वे शेयर बाजार में नुकसान (Loss) करते हैं।

बाजार के संरचना (Structure) को समझना

VWAP Intraday Strategy के रणनीतियों के बारे मे जानने से पहले हम बाजार के संरचना (Structure) को समझेंगे।

आइए,पहले शेयर मार्केट के संरचना के 4 चरणों को समझें:

बाजार को चार चरणों में विभाजित किया जा सकता है – चरण 1 संचय चरण यह उस तरह का है जहां मार्केट ना तो ऊपर जाता है और ना ही नीचे आता है। यह किसी सीमा (Range) में घूमता रहता है।

इसके बजाय, हम चरण 2 अपट्रेंड पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। यदि हम एक अपट्रेंड में हैं, तो ही मार्केट में खरीदने के बारे में सोचना चाहिए।

जब मार्केट अपने अपट्रेंड को खत्म करता है तो फिर से रेंज में में स्थापित हो जाता है।

इसे चरण तीन कहते है। इस चरण में भी बाजार बग़ल (sideways) में मुड़ना शुरू हो जाता है, और चरण 4 में, बाज़ार में गिरावट आती है जहां व्यापारियों को खरीदने की स्थिति से बचना चाहिए और बेचने की स्थिति में चले जाना चाहिए।

VWAP क्या है?

VWAP का फुल फॉर्म Volume-Weighted-Average-Price है। मूल्य (Volumes), मात्रा(weighted) और समय (Time), यह VWAP के मूल्य घटक हैं। Time बहुत ही महत्वपूर्ण है। क्योंकि सभी व्यक्ति अलग-अलग टाइम पर ट्रेड करते हैं। VWAP Intraday Strategy का उपयोग करके कुछ लोग swing Traders हैं तो कुछ लोग scalper पर हैं और कुछ लोग Intraday Traders भी हैं।

अब हम प्राइस पर आते हैं, सबसे पहले हमें यह देखना होता Swing Trading Strategy उपयोग करने का क्या फायदा होता है है की कौन मार्केट को चला रहा है। मतलब की मार्केट में ज्यादा लोग खरीदारी कर रहे हैं या फिर बेचने की स्थिति में है।

अगर अधिकतर लोग मार्केट में खरीदारी करेंगे तो मार्केट ऊपर की तरफ जाएगा। इसके विपरीत, अगर अधिकतर लोग बेचेंगे तो मार्केट नीचे की तरफ जाना शुरु कर देगा।

वहीं अगर, लोग ना तो खरीद रहे हैं और ना ही बेच रहे हैं तो मार्केट एक रेंज में घूमता रहेगा।

इंट्राडे में VWAP का उपयोग करके खरीदने की रणनीति

जब मार्केट ऊपर जा रहा है तो, हम एक मिनट की समय सीमा (Timeframe) देखेंगे। और अगर प्राइस VWAP के ऊपर है तो हम मार्केट में कभी भी बेचने की कोशिश नहीं करेंगे।

VWAP Intraday Strategy दिशानिर्देश

VWAP भी मूवींग एवरेज (Moving Average) की तरह दिखता है। जिस तरह से जब मार्केट 50-Day मूविंग एवरेज के ऊपर जाता है तो हम इसे अपट्रेंड मार्केट कहने लगते हैं।

इसी तरह से छोटे टाइम फ्रेम पर जब मार्केट VWAP के ऊपर होता है तो हम इसे अब ट्रेंड मार्केट मान लेते हैं।

एक बार जब प्रतिरोध टूट जाता है, तो कोई अपना स्टॉप-लॉस सेट कर सकता है और देख सकता है कि कोई नया चलन सामने आता है या नहीं। लेकिन, फिर से, यह उस लंबी अवधि की समय सीमा के साथ संरेखित होता है, इसलिए उन तटस्थ अवधियों को पहचानने में मूल्य है।

निष्कर्ष (Conclusion):

हमें उम्मीद है कि आपको यह ब्लॉग जानकारीपूर्ण लगा होगा और शेयर मार्केट की दुनिया में इसकी अधिकतम क्षमता का उपयोग करेंगे। इसके अलावा, इस ब्लॉग को अपने परिवार और दोस्तों के साथ साझा करके और वित्तीय साक्षरता फैलाने के हमारे मिशन में हमारी मदद करके कुछ प्यार दिखाएं।

रेटिंग: 4.75
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 180