म्यूचुअल फंड एक ऐसा फंड है, जो AMC यानी एसेट मैनेजमेंट कंपनीज ऑपरेट करती है। इन कंपनियों में कई लोग अपने पैसे निवेश करते हैं। म्यूचुअल फंड द्वारा इन पैसों को बॉन्ड, शेयर मार्केट समेत कई जगहों पर निवेश किया जाता है। वहीं अगर बात डेरीवेटिव फंड की की जाए तो यह एक वित्तीय अनुबंध है जो एक या अधिक अंतर्निहित परिसंपत्तियों से इसके मूल्य को प्राप्त करता है।

शेयर मार्केट और स्टॉक मार्केट में क्या अंतर है

स्टॉक मार्किट क्या होता है ?

अगर शाब्दिक अर्थ में कहें तो शेयर बाजार (Stock Market) किसी सूचीबद्ध कंपनी में हिस्सेदारी खरीदने-बेचने की जगह है. भारत में बोम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) नाम के दो प्रमुख शेयर बाजार हैं.

BSE या NSE में ही किसी लिस्टेड कंपनी के शेयर ब्रोकर के माध्यम से खरीदे और बेचे जाते हैं. शेयर बाजार (Stock Market) में हालांकि बांड, म्युचुअल फंड और डेरिवेटिव का भी व्यापार होता है.

Youtuber | पोस्ट किया 29-May-2021

शेयर मार्केट या स्टॉक मार्केट एक ऐसा मार्केट होता है जहां पर बहुत सारी कंपनियों के शेयर खरीदे व बेचे जाते हैं। यह एक ऐसी जगह होती है जहाँ कोई भी इंसान बहुत सारे पैसे कमा भी सकता है और गवा भी सकता है।किसी कंपनी के शेयर खरीदने का मतलब है उस कंपनी का हिस्सेदार बन जाना। जो व्यक्ति जितनें ज्यादा शेयर खरीदेगा वह उस कंपनी का उतना ज्यादा %का हिस्सेदार बन जाएगा ।

What is Share and Share Market: शेयर क्या होता है? क्यों खरीदते हैं लोग शेयर?

aajtak.in

  • नई दिल्ली ,
  • 13 नवंबर 2021,
  • अपडेटेड 1:37 PM IST

Basics of Stock Market and Shares: व्यापार में और निवेश जगत में शेयर का नाम सबसे ज्यादा लिया जाता है , शेयर के बारे में लोग बाते करते है और बताते है. लेकिन अगर आप नहीं जानते शेयर क्या है, तो कोई बात नहीं. आज इस वीडियो से जानें कि आखिर क्या होता है शेयर और क्यों लोग शेयर खरीदते हैं.

शेयर बाजार में क्या होता है फेस वैल्यू? क्या है इसका महत्व

बिजनेस डेस्क, नई दिल्ली। शेयर बाजार में कई तरह के टर्म्स का इस्तेमाल किया जाता है। अगर आप एक इन्वेस्टर है, तो ट्रेडिंग के दौरान इन शब्दों जैसे फेस वैल्यू,स्टॉक स्प्लिट, डिविडेंड, शेयर बायबैक टर्म्स अक्सर सुनने को मिलते है।

5paisa के साथ शुरू करें निवेश का सफर, विजिट करें- https://bit.ly/3n7jRhX

आखिर ये फेस वैल्यू क्या होता है?

फेस वैल्यू वह वैल्यू हैं, जब कोई कंपनी IPO के जरिए से पहली बार अपने शेयर जारी करती हैं, तो कंपनी सबसे पहले एक शेयर की वैल्यू निर्धारित करती हैं। इसे शेयर वैल्यू के नाम से भी जाना जाता हैं। फेस वैल्यू को M.R.P या अंकित मूल्य भी कहा जाता हैं। उदाहरण के तौर पर जिस प्रकार हम दिनचर्या में किसी सामान को लेते समय M.R.P या अंकित मूल्य देखते है, और उस सामान के प्राइस के बारे में पता चलता है, उसी तरह से शेयर बाजार में भी किसी कम्पनी के स्टॉक की फेस वैल्यू से कम्पनी के शेयर की जानकारी ले सकते है।

if you want better returns from multibagger and penny stocks, you have to adopt such a strategy

वहीं, आप ने देखा होगा आईपीओ जब लॉन्च होता है तो ज्यादातर कंपनियां फेस वैल्यू से अधिक मूल्य पर अपने स्टॉक ऑफर करती हैं। लेकिन फेस वैल्यू हमेशा फिक्स रहती हैं। फेस वैल्यू का शेयर की मार्केट प्राइस से कोई सम्बन्ध नहीं होता। फेस वैल्यू 1, 2, 5, 10 यहाँ तक की 100 रुपये भी हो सकती हैं। परन्तु ज्यादातर समय फेस वैल्यू 10 ही रहती है।

Share Market में करना चाहते हैं निवेश की शुरुआत, जानिए शेयर बाजार की ABCD

Vikash Tiwary

Edited By: Vikash Tiwary @ivikashtiwary
Updated on: November 05, 2022 19:07 IST

Share Market में निवेश की शुरुआत करने से पहले ये जानें- India TV Hindi

Photo:INDIA TV Share Market में निवेश की शुरुआत करने से स्टॉक मार्केट क्या होता है पहले ये जानें

What is Share Market: शेयर मार्केट में निवेश करना जोखिमों से भरा होता है। अगर आप नए हैं, आपने इससे पहले कभी किसी स्टॉक (Stock) में निवेश नहीं किया है और आपको इस बात की जानकारी नहीं है कि शेयर मार्केट क्या होता है और यह कैसे काम करता है? क्या स्टॉक मार्केट में सिर्फ शेयर ही खरीदे-बेचे जाते हैं? तो आज हम आपके इन सभी सवालों का जवाब इस खबर में देने जा रहे हैं।

शेयर मार्केट क्या है?

शेयर मार्केट एक ऐसा बाजार है, जहां खरीदार BSE(Bombay Stock Exchange) और NSE(National Stock Exchange) पर सूचीबद्ध शेयरों की खरीद-बिक्री करते हैं। यह सेबी(Securities and Exchange Board of India) के देखरेख में काम करता है। सेबी भारत सरकार की संस्था है जो शेयर बाजार में लिस्टेड कंपनियों पर नजर रखती है ताकि वह ग्राहक के साथ फ्रॉड ना कर सके। इसे दो भाग में क्लासिफाइड किया गया है। प्राइमरी और सेकेंडरी।

जब कोई कंपनी शेयरों के माध्यम से धन जुटाने के लिए पहली बार स्टॉक एक्सचेंज में खुद को रजिस्टर करती है तो उसे प्राइमरी कैटेगरी में रखा जाता है, वहीं एक बार जब कंपनी की नई सिक्योरिटी को प्राइमरी मार्केट में बेच दिया जाता है, तब उसका कारोबार सेकेंडरी में किया जाने लगता है। यहां निवेशकों को बाजार की मौजूदा कीमतों पर शेयर खरीदने और बेचने का मौका मिलता है।

शेयर के आलावा इनमें भी कर सकते हैं निवेश

स्टॉक एक्सचेंज में इन चार रूप (शेयर, बांड, म्यूचुअल फंड और Derivatives) में ट्रेडिंग होती है, जिसमें सबसे पहला स्थान शेयर का होता है। अगर आप किसी कंपनी के शेयर खरीदते हैं तो आप उस कंपनी के उतने फीसदी के हिस्सेदार हो जाते हैं। कंपनी के नफा-नुकसान का असर सीधे आपके उपर पड़ता है।

बांड लंबी अवधि के लिए खरीदे जाते हैं। जब एक कंपनी को पर्याप्त पूंजी की स्टॉक मार्केट क्या होता है आवश्यकता होती है। पूंजी जुटाने का एक तरीका जनता को बांड जारी करना होता है। ये बांड कंपनी द्वारा लिए गए "ऋण" का प्रतिनिधित्व करते हैं। बांडधारक कंपनी के लेनदार बन जाते हैं और कूपन के रूप में समय पर ब्याज भुगतान प्राप्त करते हैं।

शेयर मार्केट क्या होता है

जिस प्रकार से हम कोई सामान लेने के लिए मार्केट में जाते हैं उसी प्रकार शेयर खरीदने के लिए भी शेयर का मार्केट होता है लेकिन आज से कुछ समय पहले कंप्यूटर लैपटॉप नहीं होने के कारण और इंटरनेट न होने के कारण इन शेयर को फिजिकली खरीदा जाता था इन शेयर की बोली लगाई जाती थी।

लेकिन आज के टाइम में इंटरनेट का यूज बहुत ज्यादा होने लगा है क्योंकि अब हर एक घर में लैपटॉप कंप्यूटर या स्मार्टफोन तो जरूर ही देखने को मिल जाते हैं और इस कारण से शेयर मार्केट का प्लेटफार्म ऑनलाइन कर दिया गया है। अब ज्यादातर लोग शेयर ऑनलाइन ही खरीदें और बेचे जाते हैं सबसे ज्यादा पॉपुलर मार्केट इसके अंदर दो ही है पहला NSE और दूसरा BSE यह दो मार्केट सबसे ज्यादा पॉपुलर है शेयर खरीदने और बेचने के लिए।

शेयर मार्केट और स्टॉक मार्केट में क्या अंतर है

स्टॉक मार्केट क्या होता है

स्टॉक मार्केट एक ऐसी जगह होती है जहां पर आप अपना पैसा लगाकर बहुत ज्यादा फायदा यहां पर ले सकते हैं। यहां पर हम कम पैसे लगाकर बहुत ज्यादा मुनाफा कमा सकते हैं लेकिन इसके अंदर रिस्क भी बहुत ज्यादा होता है हमारा पैसा कभी भी इसके अंदर डूब सकता है। स्टॉक मार्केट के अंदर आपको अलग अलग कंपनियों के शेयर देखने को मिलते हैं जिन्हें कि आप कम दामों पर खरीद लेते हैं और अगर कंपनी को मुनाफा हो जाता है तो आप उन्हें अच्छे खासे मुनाफे पर बेच सकते है जिससे आगे जाकर अच्छा खासा मुनाफा हो जाए।

लेकिन कई बार ऐसा भी हो जाता है कि हमें किसी ऐसी कंपनी के शेयर खरीद लेते हैं जो कि आगे चलकर डूब जाती है और उस कारण से हम जितने भी शेयर खरीदते हैं वह शेयर हमारे बहुत कम दामों में बिकने के कारण है हमें इसके अंदर घाटा भी लग जाता है, तो इसके अंदर आपको सोच समझकर इन्वेस्ट करना है।

शेयर मार्केट और स्टॉक मार्केट में क्या अंतर है

स्टॉक और शेयर मार्केट में अंतर की बात करें तो स्टॉक मार्केट का मतलब होता है कि जब बहुत सारी कंपनियों के शेयरों को एक साथ मार्केट में बेचते है तो उन्हे स्टॉक मार्केट कहते हैं और जब कोई स्टॉक मार्केट क्या होता है एक कंपनी अपने शेयर को बेचती है तो उसे हम शेयर मार्केट कहते हैं। तो शेयर मार्केट और स्टॉक मार्केट के अंदर हमें सबसे बड़ा अंतर यही देखने को मिलता है लेकिन यह अंतर ज्यादातर लोगों को पता नहीं होता।

ज्यादातर लोगों को इसके बारे में पता ही नहीं होता कि स्टॉक मार्केट अलग होता है और शेयर मार्केट अलग होता है क्योंकि यह दोनों नाम बोलने में और देखने में एक समान है इस कारण से लोगों को इन में अंतर देखने को नहीं मिलता लेकिन आपको बता दूं कि स्टॉक मार्केट और शेयर मार्केट के अंतर बहुत बड़ा अंतर होता है।

शेयर मार्केट और स्टॉक मार्केट में पैसे लगाने के लिए किन चीजों की जरुरत पड़ेगी

अगर आप स्टॉक मार्केट और शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करना चाहते हैं या ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको कुछ जरूरी चीजों की जरूरत पड़ेगी अगर आप इसमें ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो आपको इनके लिए किन किन चीजों की जरूरत पड़ेगी तो चलिए देखते हैं।

  1. स्टॉक मार्केट और शेयर मार्केट में ट्रेडिंग करने के लिए आपको सबसे पहले एक सेविंग बैंक अकाउंट की जरूरत होगी अगर आपका सेविंग बैंक अकाउंट ओपन है तो आप इसके अंदर ट्रेडिंग कर सकते हैं।
  2. आपका जो सेविंग बैंक अकाउंट ओपन होगा आपको उस अकाउंट को अपने डीमैट अकाउंट से लिंक करना होगा डीमैट अकाउंट आपके शेयर के बारे में जितनी भी जानकारी होगी आपको वह सभी डीमैट अकाउंट के अंदर ही देखने को मिलेगी।
  3. आप जब अपना डीमैट अकाउंट ओपन कर लोगे तो आपको अपने डीमैट अकाउंट के अंदर सारी शेयर की डिटेल दिखाई देती रहेगी और आपको कितना फायदा हुआ है, या कितना घाटा हुआ है, यह सभी चीज पहले आपको डीमैट अकाउंट के अंदर दिखाई देगी और आपको जितने भी पैसे का लाभ होता है, बाद में आप उस पैसे को अपने सेविंग अकाउंट में ट्रांसफर कर सकते हैं।
रेटिंग: 4.32
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 793