Cryptocurrency Trading : क्रिप्टोकरेंसी में निवेश को लेकर है बहुत से भ्रम. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

इंट्राडे ट्रेडिंग फॉर्मूला

क्या आप जानते है की अलग-अलग ट्रेडिंग फॉर्मेट के लिए कुछ विशेष फॉर्मूला का उपयोग होता हैं। इंट्राडे ट्रेडिंग (intraday trading in hindi) के लिए एक तरह का फॉर्मूला है जिसकी जानकारी आपको ट्रेड करने में मदद कर सकती है। तो आईये जानते है क्या है इंट्राडे ट्रेडिंग फॉर्मूला।

अगर आप भी सोच रहे की इंट्राडे फॉरेक्स ट्रेडिंग कैसे करे ट्रेडिंग कैसे सीखें तो उसके लिए आप एक सही फॉर्मूला का इस्तेमाल कर सकते है।

इसमें अगर हम शेयर मार्केट के गणित को जाने तो काफी ऐसे फॉर्मूला है जो मार्केट ट्रेंड को देखने और उसे समझने में काफी लाभदायक होता है, जैसे की अगर हम स्टॉक मार्केट में सपोर्ट और रेजिस्टेंस को ही ले तो ये शेयर मार्केट में बारे में काफी जानकारी देता है। हालांकि ये चार्ट की मदद से आसानी से समझा जा सकता है लेकिन अगर हम शुरूआती ट्रेडर की बात करे तो उनके लिए ये काफी मुश्किल होता है।

1. पाईवोट पॉइंट थ्योरी

यह काफी प्रभावी इंट्राडे ट्रेडिंग फॉर्मूला है। इस फॉर्मूला से पिछले दिन के प्रदर्शन के आधार पर स्टॉक के गति का पूर्वानुमान लगता है। पिछले दिन के अनुमान से हमें तीन इनपुट डाटा का उपयोग करते हैं।

  • पिछले ट्रेडिंग दिन के हाई प्राइस (H)
  • पिछले ट्रेडिंग दिन के लो प्राइस (L)
  • पिछले ट्रेडिंग दिन के क्लोजिंग प्राइस (C)

हमें इन तीनों प्राइस को जोड़ने की जरुरत होती है।

अब, X के वैल्यू को तीन से भाग (Divide) करना होता है।

X/3 = P जिसे पाईवोट पॉइंट थ्योरी (Pivot Point Theory) कहते हैं।

उसके बाद P को दो से गुना करते हैं।

प्रथम रेजिस्टेंस स्तर (R1) = Y-L

द्वितीय रेजिस्टेंस स्तर (R2) फॉरेक्स ट्रेडिंग कैसे करे = P+(H-L)

उसी प्रकार हम सपोर्ट स्तर भी कैलकुलेट कर सकते हैं।

प्रथम सपोर्ट स्तर = Y-H

2. फ्रैक्शन थ्योरी

पाईवोट पॉइंट थ्योरी की तरह फ्रैक्शन थ्योरी (Fraction Theory) भी काफी प्रसिद्ध ट्रेडिंग फॉर्मूला है। इसमें भी पिछले दिन के स्टॉक के डाटा के आधार पर स्टॉक की गति का पता लगाया जाता है।

फ्रैक्शन थ्योरी को कैलकुलेट करने का फॉर्मूला इस प्रकार है।

इसमें रेजिस्टेंस और सपोर्ट के स्तर को भी पाईवोट पॉइंट थ्योरी की फॉरेक्स ट्रेडिंग कैसे करे तरह ही कैलकुलेट किया जाता है।

उदाहरण के तौर पर, Sun Tv Network की पिछले दिन की शेयर मार्केट डाटा इस प्रकार है।

Y = (540+516+539)* 0.67 = 1068

रेजिस्टेंस स्तर = 1068-516 = 552

सपोर्ट स्तर = 1068-540 = 528

PB = 1068-539 = 529

फ्रैक्शन थ्योरी का उपयोग शेयर्स के पॉसिबल बॉय (PB) और उस उस दिन के रेजिस्टेंस को निर्धारित करने के लिए किया जाता है।

निष्कर्ष

इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीति पिछले दिन की के इनपुट के साथ ही वर्तमान के ट्रेडिंग सत्र पर भी निर्भर करता है।

डेमो सौदा सकारात्मक फॉरेक्स ट्रेडिंग कैसे करे के साथ बंद कर दिया गया था

आपका डेमो सौदा घाटे में बंद हो गया था

विदेशी मुद्रा बाजार में वास्तविक व्यापार शुरू करने के लिए, आपको आवश्यकता होगी:

अपने पैसे को खतरे में डाले बिना विदेशी मुद्रा और सीएफडी बाजारों में व्यापार शुरू करें.

GBP/JPY विदेशी मुद्रा ट्रेडिंग शर्तें

फॉरेक्स ट्रेडिंग कैसे करे
OptionsStandard-Fixed & FloatingBeginner-Fixed & FloatingDemo-Fixed & Floating
फिक्स्ड स्प्रेड इन पिप्स 5.5 5.5 5.5
Floating Spread
in pips
4.4 4.4 5.5
आर्डर डिस्टेंस इन पिप्स 11 11 11
स्वैप इन पिप्स
(लॉन्ग/शार्ट)
0.80 / -2.00 0.80 / -2.00 0.80 फॉरेक्स ट्रेडिंग कैसे करे / -2.00
अंकों 0.01 0.01 0.01
Available
volumes
>=10000.00 GBP 100.00 – 100000.00 GBP >=100.00 GBP
लॉट -/- -/- -/-
1 पिप मूल्य
पर 100000
1000 JPY 1000 JPY 1000 JPY

ट्रेड करेंसी पेयर्स और हमारे साथ विदेशी मुद्रा व्यापार के लाभों की खोज

650 + ट्रेडिंग इंस्ट्रूमेंट्स - मुद्राओं, स्टॉक्स, कमोडिटीज, मेटल, इंडेक्स, ईटीएफ और क्रिप्टो फ्यूचर्स

यह अपने सिंथेटिक उपकरणों - GeWorko विधि का उपयोग कर

एडवांडेड ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म्स -NetTradex, Metatrader 4 /5

इंस्टेंट ऑर्डर निष्पादन और संकीर्ण फैलता है

प्रोफिटेबल पार्टनरशिप प्रोग्राम - बहुत सारे के लिए $ 15 तक

24/7 योग्य ऑनलाइन समर्थन

ट्रेडिंग हॉर्स GBPJPY

  • अन्य प्रमुख मुद्राओं की तुलना में एक अपेक्षाकृत उच्च मूल्य की विशेषता है
  • अक्सर एक आरक्षित मुद्रा के रूप में इस्तेमाल किया है

  • कम मुद्रास्फीति और देश की अर्थव्यवस्था की उच्च स्थिरता की वजह से एक "सुरक्षित पनाहगाह" मुद्रा के रूप में माना जाता है
  • अन्य प्रमुख मुद्राओं की तुलना में अपेक्षाकृत कम मूल्य की विशेषता काफी कम ब्याज दरों के कारण
  • सक्रिय रूप से व्यापार के संचालन, विशेष रूप से एशिया में में शामिल है।
  • राष्ट्रीय मुद्रा की विनिमय दर कम ऐतिहासिक दृष्टि से सरकार द्वारा, इष्ट था निर्यातकों का समर्थन करने और आर्थिक विकास में योगदान दे

कितने पैसों की पड़ती है जरूरत

इंट्रा डे में आप किसी शेयर में कितनी भी रकम लगा सकते हें. शेयर बाजार में नियम है कि जिस दिन शेयर खरीदा जाता है, उस दिन पूरा पैसा नहीं देना होता है. नियम के तहत जिस दिन शेयर खरीदा जाता है, उसके 2 ट्रेडिंग दिनों के बाद पूरा भुगतान करना होता है. फिर भी आपको शेयर के भाव का शुरू में 30 फीसदी रकम निवेश करना होता है.

इसका उदाहरण 6 मार्च 2019 यानी बुधवार को शेयर बाजार में होने वाली ट्रेडिंग से ले सकते हैं. दीवान हाउसिंग फाइनेेंस कॉरपोरेशन (DHFL) के शेयरों में निवेश करने वालों के लिए बुधवार का दिन बेहतर साबित हुआ. बुधवार को पॉजिटिव सेंटीमेंट जुड़ने के बाद कंपनी के शेयर में 20 फीसदी तक तेजी आई है.

DHFL का शेयर मंगलवार को 134 रुपये के भाव पर बंद हुआ था. वहीं बुधवार को यह 147.40 के भाव पर खुला और कुछ देर में ही 160 रुपये के भाव पर पहुंच गया. यानी प्रति शेयर 26 रुपये का फायदा हुआ. इस लिहाज से अगर किसी ने 50 हजार रुपये लगाए होंगे तो उसकी रकम बढ़कर 60 हजार रुपये हो गई. कुछ घंटों में ही 10 हजार रुपये का फायदा.

जानकारों की राय

एक्सपर्ट के अनुसार हालांकि शेयर बाजार का अधिकांश कारोबार डे ट्रेडिंग का ही होता है, लेकिन फिर भी सावधानी के साथ कारोबार करना चाहिए. शेयर का चुनाव करने के पहले बाजार का ट्रेंड जरूर देखना चाहिए. मार्केट के ट्रेंड के खिलाफ न जाएं. शेयर खरीदने के पहले यह तय करें कि किस भाव में खरीदना है और उसका लक्ष्य कितना है. स्टॉप लॉस जरूर लगाएं.

(Discliamer: हम यहां इंट्राडे कारोबार के बारे में जानकारी दे रहे हैं, न कि निवेश की सलाह. शेयर बाजार के अपने जोखिम होते हैं, फॉरेक्स ट्रेडिंग कैसे करे इसलिए निवेश के पहले एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.<

कौन कर सकता है ट्रेडिंग?

ऐसे लोग जो कंप्यूटर या टेक सैवी नहीं हैं, वो कैसे क्रिप्टो निवेश की दुनिया में प्रवेश कर सकते हैं? ऐसा जरूरी नहीं है कि हर निवेशक क्रिप्टो माइनिंग करता है. अधिकतर निवेशक बाजार में पहले से मौजूद कॉइन्स या टोकन्स में ट्रेडिंग करते हैं. क्रिप्टो फॉरेक्स ट्रेडिंग कैसे करे इन्वेस्टर बनने के लिए माइनर बनना जरूरी नहीं है. आप असली पैसों से एक्सचेंज पर मौजूद हजारों कॉइन्स और टोकन्स में से कोई भी खरीद सकते हैं. भारत में ऐसे बहुत सारे एक्सचेंज हैं तो कम फीस या कमीशन में ये सुविधा देते हैं. लेकिन यह जानना जरूरी है कि क्रिप्टो में निवेश जोखिम भरा है और मार्केट कभी-कभी जबरदस्त उतार-चढ़ाव देखता है. इसलिए फाइनेंशियल एक्सपर्ट्स निवेशकों से एक ही बार में बाजार में पूरी तरह घुसने की बजाय रिस्क को झेलने की क्षमता रखने की सलाह देते हैं.

यह समझना भी जरूरी है कि सिक्योर इन्वेस्टमेंट, सेफ इन्वेस्टमेंट नहीं होता है. यानी कि आपका निवेश ब्लॉकचेन में तो सुरक्षित रहेगा लेकिन बाजार में उतार-चढ़ाव का फॉरेक्स ट्रेडिंग कैसे करे असर इसपर होगा ही होगा, इसलिए निवेशकों को पैसा लगाने से पहले जरूरी रिसर्च करना चाहिए.

Currency Trading से कैसे कमा सकते हैं पैसा? यहां जानिए 'करेंसी ट्रेडिंग' से जुड़ी 9 जरूरी बातें

Currency Trading in Hindi: आप पैसा बनाने की अपनी खोज में Currency Trading का लाभ उठा सकें। आइए इस लेख में जानते है कि करेंसी ट्रेडिंग क्या है? (What is Currency Trading in Hindi) और करेंसी मार्केट से जुड़े अन्य पहलुओं पर नजर डालते है।

  Currency Trading in Hindi: स्टॉक (Stock) और इक्विटी (Equity) ट्रेडिंग के बारे में हर कोई जानता है। लेकिन, एक उच्च क्षमता वाला बाजार है जिसके बारे में ज्यादातर लोगों को जानकारी नहीं है। इस एवेन्यू को मुद्रा व्यापार (Currency Trading) कहा जाता है। Foreign Currencies आपको लाभ का एक मौका देता है अगर आप सही अवसर का पता लगाने और अपने लाभ के लिए उनका उपयोग करने में सक्षम हैं। आइए हम करेंसी मार्केट ट्रेडिंग (Currency Market Trading) के बेसिक कांसेप्ट को समझते हैं ताकि आप पैसा बनाने की अपनी खोज में Currency Trading का लाभ फॉरेक्स ट्रेडिंग कैसे करे उठा सकें। तो आइए इस लेख में जानते है कि करेंसी ट्रेडिंग क्या है? (What is Currency Trading in Hindi) और करेंसी मार्केट से जुड़े अन्य पहलुओं पर नजर डालते है।

रेटिंग: 4.57
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 203