क्रिप्टो करेंसी को संपदा (एसेट) के रूप में रखा जाता है| इसकी ट्रेडिंग की जाती है क्रिप्टो करेंसी ने निवेश करने वालों को बहुत ही अच्छा रिटर्न दिया है|

Cryptocurrency : क्या भारत में गैर कानूनी है क्रिप्टोकरेंसी? भविष्य में क्या हैं संभावनाएं? एक क्लिक पर जानें सबकुछ

Cryptocurrency क्या है ?यह कैसे काम करती है ? | What is Cryptocurrency ?

Cryptocurrency (क्रिप्टो करेंसी) एक डिजिटल या वर्चुअल मुद्रा है जिसे सामान और सेवाएं खरीदने के लिए इस्तेमाल किया जाता है| क्रिप्टो करेंसी स्ट्रांग क्रिप्टोग्राफी और ऑनलाइन लेजर का इस्तेमाल करता है।

क्रिप्टो करेंसी ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर काम करता है। ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी एक डिसेंट्रलाइज्ड टेक्नोलॉजी है जिसका ट्रांज़ैक्शन इंटरनेट पर मौजूद बहुत सारे कंप्यूटर्स में रिकॉर्ड किया जाता है जो उसे मैनेज करते हैं| जिससे इसके डाटा में हेरफेर नहीं किया जा सकता है|

क्रिप्टो करेंसी सामान्यत: सरकार द्वारा जारी नहीं की जाती है जिससे इस पर सरकार का हस्तक्षेप नहीं होता है।बहुत सारी कंपनियों ने अपना करेंसी क्रिप्टो करेंसी जारी किया है जिसे टोकन कहते हैं इस टोकन को कंपनी द्वारा कंपनी के सामान और सेवाएं खरीदने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

क्रिप्टो करेंसी कितने प्रकार का होता है ? Types of Crypto Currency

पहला ब्लॉक चेन आधारित क्रिप्टोकरंसी बिटकॉइन है जो कि आज भी सबसे ज्यादा लोकप्रियऔर बहुमूल्य है। आज हजारों की संख्या में क्रिप्टो करेंसी है जिनका विशेषताएं और फंक्शन अलग-अलग है | इनमें से कुछ क्लोन करेंसी हैं जोकि बिटकॉइन पर आधारित है और कुछ मूल रूप से बनाए गए हैं।

क्रिप्टो करेंसी तीन प्रकार के होते हैं

  1. बिटकॉइन Bitcoin
  2. अल्टकोइंस Alt Coins
  3. टोकेंस/ डी ऐप्स Tokens/dApps

Bitcoin | बिटकॉइन्स

2008 में सतोशी नाकामोतो ने बिटकॉइन का अपना वाइट पेपर ऑनलाइन जारी किया था| प्रारंभ में इसे डार्क वेब पर गुड्स और सर्विस ट्रेड करने अल्टकॉइन के प्रकार अल्टकॉइन के प्रकार के लिए इस्तेमाल किया जाता था|

2013-14 से इसकी लोकप्रियता और इसका मूल्य बढ़ना प्रारंभ हुआ| आज इसका मूल्य Rs 3565942 तक पहुंच गया है|

बिटकॉइन ने ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी लोगों के सामने लाया जिससे बिना थर्ड पार्टी के बिटकॉइन को रिसीव करना और दूसरे को भेजना संभव हुआ | यह पूरी तरह डिसेंट्रलाइज है इसका मतलब है कि या किसी भी थर्ड पार्टी या बैंक पर निर्भर नहीं है ||

बिटकॉइन के द्वारा प्रत्येक ट्रांजैक्शन डायरेक्टली यूजर्स के बीच में होता है इसे पियर टू पियर नेटवर्क कहते हैं| इससे अपना पहचान बताएं बिना पेमेंट कर सकते हैं|

Bitcoin कैसे काम करता है?

जब कोई बिटकॉइन भेजता है तो उसके ट्रांजैक्शन को वेरीफाई किया जाता है और ब्लॉकचेन में स्टोर कर लिया जाता है। ब्लॉकचेन में जो सूचनाएं होती हैं इंक्रिप्टेड होती हैं जिसे सब देख सकते हैं लेकिन उसे डिक्रिप्ट केवल उसका मालिक कर सकता है| सभी कार्नर के पास अपना एक प्राइवेट की होता है जिससे वे बिटकॉइन को डिक्रिप्ट कर सकते हैं।

बिटकॉइन ब्लॉकचेन अलग-अलग लोग और कंपनियां अपने कंप्यूटर पर चलाती हैं। वह लोग अपने कंप्यूटर में एक विशेष सॉफ्टवेयर चलाते हैं जो प्रत्येक ट्रांजैक्शन को वेरीफाई करता है | इसे नोड Node /Miner कहा जाता है |

Nodes /Miners को ट्रांजैक्शन वेरीफाई करने के लिए नया बिटकॉइन मिलता है|

जब एक नया ट्रांजैक्शन ब्लॉक, ब्लॉक चेन में भेजा जाता है तो Node /Miners एक स्पेशल एल्गोरिदम जिसे प्रूफ ऑफ वर्क(Proof of Work) कहते हैं के द्वारा वेरीफाई करते हैं| जो पहला माइनर उसे वेरीफाई करता है उसे नया कॉइन मिलता है |

बायनेन्स पर अल्टकॉइन खरीदें

अल्टकॉइन बिटकॉइन के अलावा अन्य क्रिप्टो मुद्रा (क्रिप्टोकरेंसी) हैं। अल्टकॉइन बिटकॉइन के साथ विशेषताओं को साझा करते हैं लेकिन ब्लॉक बनाने या लेनदेन को मान्य करने के लिए एक अलग सर्वसम्मति तंत्र का उपयोग करते हैं। या, वे स्मार्ट अनुबंध या कम लेनदेन शुल्क के साथ खुद को अलग करते हैं।

उपरोक्त ग्राफ सभी असेट के कुल बाजार पूंजीकरण के सापेक्ष सबसे बड़ी दस क्रिप्टो परिसंपत्ति (क्रिप्टोअसेट) के अलग-अलग अनुपात को दर्शाता है। चूंकि BTC प्रथम असेट था, अत: यह मार्केट कैप के हिसाब से सबसे बड़ा बना रहा, यही कारण है कि बाजार में इसका प्रभुत्व एक संख्या है जिसका बहुत से लोग अनुसरण करते हैं। हम इस चार्ट में ट्रैक किए गए असेट का वर्णन क्रिप्टो परिसंपत्ति (क्रिप्टोअसेट) के रूप में करते हैं क्योंकि इसमें टोकन और स्थिर कॉइन शामिल हैं।

अल्टकॉइन के प्रकार

विभिन्न कार्यक्षमता और सर्वसम्मति तंत्र एक अल्टकॉइन बना सकते हैं। इन विविधताओं के आधार पर, अल्टकॉइन एक से अधिक श्रेणियों में आ सकते हैं। यहां कुछ अधिक महत्वपूर्ण श्रेणियों पर क्रैश कोर्स दिए गए हैं :

माइनिंग (खनन)-आधारित

माइनिंग (खनन)-आधारित अल्टकॉइन, जैसा कि नाम से पता चलता है, अस्तित्व में खनन किया जाता है और कार्य के एक सबूत (PoW) के रूप में उपयोग किया जाता है, एक ऐसी विधि जिसमें सिस्टम ब्लॉकचेन में जोड़े गए सत्यापित लेनदेन के "ब्लॉक" को पूरा करके नए कॉइन उत्पन्न करता है। माइन-आधारित अल्टकॉइन के उदाहरण लाइटकॉइन, मोनेरो और Zcash हैं।

स्थिर कॉइन

स्थिर कॉइन U.S. डॉलर या यूरो जैसे फिएट मनी के मूल्य अल्टकॉइन के प्रकार को बारीकी से ट्रैक करते हैं। वे मूल्य स्थिरता बनाए रखते हुए उपयोगकर्ताओं को दुनिया भर में सस्ते और तेजी से मूल्य अंतरित करने की अनुमति देते हैं। BUSD USD-समर्थित स्थिर कॉइन का एक उदाहरण है।

बायनेन्स पर अभी सबसे अधिक कारोबार वाली क्रिप्टो मुद्रा (क्रिप्टोकरेंसी)

आसानी से और सुरक्षित रूप से अपने क्रेडिट/डेबिट कार्ड से BNB, DOGE, XRP, ETH, USDT, ADA, LTC, LINK और 100+ अन्य क्रिप्टो मुद्रा (क्रिप्टोकरेंसी) खरीदें।

अपने बायनेन्स खाते में कोई भी असमर्थित क्रिप्टो मुद्रा (क्रिप्टोकरेंसी) न भेजें या अपने बायनेन्स खाते का उपयोग करके ICO में भाग लेने का प्रयास न करें। ऐसा करने से विचाराधीन क्रिप्टो मुद्रा (क्रिप्टोकरेंसी) का नुकसान होगा।

Bitcoin | बिटकॉइन्स

2008 में सतोशी नाकामोतो ने बिटकॉइन का अपना वाइट पेपर ऑनलाइन जारी किया था| प्रारंभ में इसे डार्क वेब पर गुड्स और सर्विस ट्रेड करने के लिए इस्तेमाल किया जाता था|

2013-14 से इसकी लोकप्रियता और इसका मूल्य बढ़ना प्रारंभ हुआ| आज इसका मूल्य Rs 3565942 तक पहुंच गया है|

बिटकॉइन ने ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी लोगों के सामने लाया जिससे बिना थर्ड पार्टी के बिटकॉइन को रिसीव करना और दूसरे को भेजना संभव हुआ | यह पूरी तरह डिसेंट्रलाइज है इसका मतलब है कि या किसी भी थर्ड पार्टी या बैंक पर निर्भर नहीं है ||

बिटकॉइन के द्वारा प्रत्येक ट्रांजैक्शन डायरेक्टली यूजर्स के बीच में होता है इसे पियर टू पियर नेटवर्क कहते हैं| इससे अपना पहचान बताएं बिना पेमेंट कर सकते हैं|

Bitcoin कैसे काम करता है?

जब कोई बिटकॉइन भेजता है तो उसके ट्रांजैक्शन को वेरीफाई किया जाता है और ब्लॉकचेन में स्टोर कर लिया जाता है। ब्लॉकचेन में जो सूचनाएं होती हैं इंक्रिप्टेड होती हैं जिसे सब देख सकते हैं लेकिन उसे डिक्रिप्ट केवल उसका मालिक कर सकता है| सभी कार्नर के पास अपना एक प्राइवेट की होता है जिससे वे बिटकॉइन को डिक्रिप्ट कर सकते हैं।

बिटकॉइन ब्लॉकचेन अलग-अलग लोग और कंपनियां अपने कंप्यूटर पर चलाती हैं। वह लोग अपने कंप्यूटर में एक विशेष सॉफ्टवेयर चलाते हैं जो प्रत्येक ट्रांजैक्शन को वेरीफाई करता है | इसे नोड Node /Miner कहा जाता है |

Nodes /Miners को ट्रांजैक्शन वेरीफाई करने के लिए नया बिटकॉइन मिलता है|

जब एक नया ट्रांजैक्शन ब्लॉक, ब्लॉक चेन में भेजा जाता है तो Node /Miners एक स्पेशल एल्गोरिदम जिसे प्रूफ ऑफ वर्क(Proof of Work) कहते हैं के द्वारा वेरीफाई करते हैं| जो पहला माइनर उसे वेरीफाई करता है उसे नया कॉइन मिलता है |

Alt Coins | अल्ट कॉइन

बिटकॉइन के बाद बहुत सारे ने ब्लॉक चेंज बनाए गए जिन्हें अल्टकोइंस कहा जाता है| जैसे -NEO, Litecoin, Cardano…… आज के समय में 1000 से भी अल्टकॉइन के प्रकार ज्यादा अल्टकोइंस है इसमें अधिकतर कॉइन बिटकॉइन में मामूली बदलाव करके बनाए गए हैं। जबकि

कुछ Alt Coins बिटकॉइन से बिल्कुल अलग है और उनका लक्ष्य और उपयोग भी अलग है| जैसे Factom Coin प्रूफ-ऑफ़-स्टेक (PoS -Proof of Stake) का उपयोग करता है | PoS में Miners नहो होते है | इसमें Stakers होते है |

Ethereum और NEO बिटकॉइन से बिलकुल अलग है | बिटकॉइन डिजिटल करेन्सी के रूप में इस्तेमाल किया जाता है जबकि Ethereum और NEO को डिजिटल करेंसी के तौर पर नहीं बनाया गया है | ये block chain apps के लिए एक बहुत बड़ा प्लेटफार्म है | Ethereum और NEO पर आप अपना एप्लीकेशन बना सकते है | इसी से कई नए क्रिप्टो कर्रेंसी बने है |

अल्टकॉइन के प्रकार

KreditBee se Loan Kaise Le | Customer Care Number | Instant Personal Loan KreditBee se Loan Kaise Le, KreditBee Customer Care Number, Kreditbee Instant Loan, KreditBee Loan App Details, Kreditbee 2 Lakh Loan.

Use of Comma in Hindi अल्प विराम का प्रयोग ( , ) कब और कहाँ करें Use of Comma in Hindi, अल्प विराम का प्रयोग, Meaning of Comma in Hindi, Definition of Comma.

Shiba INU Coin Price Future News Today Price Prediction 2022 Shiba INU Coin Price Future News Today Price Prediction, Shiba INU Coin Price, Shib Coin Price, Shiba Inu Coin Future, Shiba Inu Coin.

Terra Luna Classic Coin Price Future News Today Prediction 2022 Terra Luna Classic Coin Price Future News Today Prediction 2022, Terra Luna Classic Coin Price, Terra Luna Classic Kya Hai in Hindi, Terra.

यह भी पढ़ें

यह बयान ऐसे समय में आया है, जब देश में क्रिप्टोकरेंसी अभी भी अनियंत्रित है. भारत में क्रिप्टोक्यूरेंसी निवेशकों और एक्सचेंजों का एक मजबूत आधार है लेकिन निवेशक अभी भी क्रिप्टोकरेंसी के भविष्य को लेकर अंधेरे में हैं.

क्या भारत में गैर कानूनी है क्रिप्टोकरेंसी?
वर्तमान में, बिटकॉइन और अन्य क्रिप्टोकरेंसी भारत में कानूनी दायरे से बाहर हैं. हम उन्हें अवैध नहीं कह सकते क्योंकि वे अभी तक देश में किसी भी केंद्रीय प्राधिकरण द्वारा उपयोग के लिए अधिकृत नहीं किया गया है. क्रिप्टोक्यूरेंसी फिलहाल किसी भी दिशा-निर्देश, विनियम या नियम के दायरे से बाहर है. इस वजह से बिटकॉइन (Bitcoin) और अल्टकॉइन (altcoin) लेनदेन जोखिम भरा है क्योंकि इन एक्सचेंजों से उत्पन्न होने वाले विवाद कानूनी रूप से बाध्य नहीं होंगे.

क्रिप्टोकरेंसी पर टैक्स?
भारत ने अभी तक क्रिप्टोकुरेंसी लेनदेन पर कोई नियम नहीं बनाए हैं, इसलिए इस पर टैक्स भी नहीं हैं, लेकिन सभी उपक्रमों से पारदर्शिता बरतने के लिए कहा गया है. अप्रैल में, इसी बाबत कंपनी अधिनियम में संशोधन पेश किए गए थे. इस पारदर्शिता के कारण, डिजिटल संपत्ति और उसके लाभ को पूंजीगत संपत्ति के रूप में गिना जा सकता है, जो पूंजीगत लाभ अल्टकॉइन के प्रकार के तहत करों से बंधी है लेकिन कंपनियां अभी तक यह सुनिश्चित नहीं कर पा रही हैं कि इस संबंध में विभिन्न प्रकार के लाभ और आय पर कर गणना कैसे की जाए.

रेटिंग: 4.71
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 451