डिजिटल करेंसी (Digital currency)
बिटकॉइन एक डिजिटल करेंसी है. यह एक ऐसी करेंसी है जिसको आप ना तो देख सकते हैं और न ही छू सकते हैं. यह केवल इलेक्ट्रॉनिकली स्टोर होती है. अगर किसी के पास बिटकॉइन है तो वह आम मुद्रा की तरह ही सामान खरीद सकता है.

बिटकॉइन का आविष्कार किसने किया

बिटकॉइन को हम एक आभासी मुद्रा कह सकते हैं। जैसे डॉलर, रूपी, यूरो, मुद्राएं हैं, ठीक उसी तरह बिटकॉइन भी एक मुद्रा है। लेकिन फर्क ये है की बिटकॉइन को हम ना देख सकते हैं, ना छू सकते हैं.

इसका आविष्कार सतोशी नाकामोटो ने 2009 में किया था. बिटकॉइन का कोई मालिक नहीं है. यानी की कोई भी सरकार या बैंक इसे कंट्रोल नही कर सकती है. तो इसीलिए बिटकॉइन को एक "डिसेंट्रलाइज्ड करेंसी" कहते हैं.

क्रिप्टो करेंसी को सिखने के लिए join करे whatsapp ग्रुप

बिटकॉइन का रेट अभी क्या है?
आज के दिन में बिटकॉइन की वैल्यू 8,85,000 रुपए हैं, यानी की $11,855 . इसकी वैल्यू डिमांड के मुताबिक बदलती रहती है, क्युकी इसको कंट्रोल करने वाली कोई बैंक या अथॉरिटी नही है.

बिटकॉइन क्या होता है ? Bitcoin Meaning

जिस प्रकार Rupee, Dollar इत्यादि Currency होता है ठीक उसी तरह Bitcoin भी एक डिजिटल मुद्रा है.

Bitcoin अन्य Currencies से बिलकुल अलग है , यह केवल डिजिटल Currency है. Bitcoin को ना ही हम देख सकते हैं और ना ही उसे पैसों की तरह छू सकते हैं.

इसे हम सिर्फ Online Wallet में Store करके रख सकते हैं.

बिटकॉइन का इतिहास , Bitcoin History

Bitcoin का आविष्कार " Satoshi Nakamoto" ने 2009 में किया था.

उसके बाद से इसकी लोकप्रियता बढती जा रही है.

Bitcoin को Control करने के लिए कोई भी Bank या Authority या सरकार नहीं है.

यह एक Decentralized Currency है. कोई इसका मालिक नहीं है.

बिटकॉइन का इस्तेमाल क्यूँ किया जाता है ?

इसका इस्तेमाल Online किसी भी तरह का Transactions करने के लिए किया जाता है.

Bitcoin एक Peer To Peer Network आधारित है.

यानि बिना किसी Bank, Credit Card या Company बिटकॉइन का आविष्कार किसने किया के आसानी से Transactions किया जाता हैं.

यह Transactions के लिए सबसे तेज़ और कुशल माना जाता है.

Bitcoin को Online Developers, Entrepreneurs, Non-Profit Organisations इत्यादि इस्तेमाल करते है.

आज Bitcoin का इसतेमाल पूरी दुनिया में Global Payment के लिए किया जा रहा है.बिटकॉइन का आविष्कार किसने किया

Bitcoin का कोई भी मालिक ना होने के कारन इससे किये गए Transactions एक Public Ledger( खाते) में Record होकर रहता हैं जिसे Bitcoin “Blockchain” कहते हैं.

Happy Birthday Bitcoin: 13 साल का हो गया Bitcoin, 6 पैसे से शुरू हुआ सफर अब 35 लाख रुपये का

सबसे पुरानी क्रिप्टोकरेंसी है बिटकॉइन (Getty Images)

  • नई दिल्ली,
  • 04 जनवरी 2022,
  • (अपडेटेड 04 जनवरी 2022, 5:53 PM IST)
  • 13 साल का हो गया बिटकॉइन
  • छह पैसे से शुरू हुआ सफर लाखों में पहुंचा

सबसे लोकप्रिय और वैल्यूएबल क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) बिटकॉइन (Bitcoin) ने इस सप्ताह 13 साल पूरे कर लिए. बिटकॉइन ने 13 साल के इस सफर में इन्वेस्टर्स को जादुई रिटर्न दिया है. इसने 13 साल पहले मात्र छह पैसे से सफर की शुरुआत की, जो अभी करीब 35 लाख रुपये के स्तर पर पहुंच चुका है.

मलामाल बना सकता है Bitcoin, एक सिक्के की कीमत 17 लाख रुपये

इस समय एक बिटकॉइन की कीमत 17 लाख, 33 हजार, 366 रुपये चल रही है.

Bitcoin: कहते हैं पैसा ही पैसे को खिंचता है. एक ऐसा ही पैसा है जो इन दिनों इतनी दौलत खींच रहा है कि मार्केट से सभी एक्सपर्ट अचंभे में हैं. अगर आपने कभी 'बिटकॉइन' (Bitcoin) लिया है तो आप उन्हें कैश कराकर अपने सपने पूरा कर सकते हैं.

क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन (Cryptocurrency Bitcoin) ने दुनिया के रिकॉर्ड तोड़ते हुए एक साल के भीतर अपनी कीमत में 349 फीसदी की इजाफा दर्ज किया है. किसी भी मुद्रा की यह अब तक की सबसे ज्यादा ग्रोथ है. इस समय एक बिटकॉइन का आविष्कार किसने किया बिटकॉइन की कीमत 17 लाख, 33 हजार, 366 रुपये चल रही है.

बिटकॉइन में लगातार तेजी (Bitcoin in Indian Rupee)
भारतीय मुद्रा में एक बिटकॉइन की कीमत करीब 17 लाख 33 हजार रुपये है. बिटकॉइन का मार्केट कैप भी 31 लाख करोड़ को पार कर चुका है. कोरोना काल के लॉकडाउन के बाद अर्थव्यवस्था खुलने से बिटकॉइन ने दो सौ गुना की तेजी हासिल की है.

क्या है ब्लॉकचैन? (What is Block Chain in hindi)

Block Chain वह तकनीक है जिससे बिटकॉइन और क्रिप्टोकरंसी को संचालित किया जाता है, ब्लॉकचेन का आविष्कार विकिपीडिया के अनुसार सक सतोशी नाकामोतो ने 2008 में किया था जिससे क्रिप्टो बिटकॉइन का ट्रांजैक्शन सेफ रखा जाता है।और बिटकॉइन क्रिएटर 2011 में गायब हो गया और बहुत सारे लोगों का कहना है कि यह एक काल्पनिक है

Block Chain एक ऐसी तकनीक है जिसके द्वारा हम किसी भी चीज को डिजिटल फॉर्मेट में बदलकर स्टोर कर सकते हैं यह प्लेटफॉर्म लेजर की तरह होते हैं ब्लॉकचेन एक डेटाबेस की तरह है जहां मूल्य के लेन-देन का रिकॉर्ड को संग्रहित किया जाता है हालांकि इस तकनीक को बिटकॉइन और क्रिप्टोकरंसी को संचालित करने के लिए किया जाता है ब्लॉकचेन कानून सरकार वृत्त और लोगों की व्यवस्था में विश्वास होने पर केंद्रीकृत डेटाबेस और संस्थान काम कर सकते हैं यहां किसी भी तरह का धोखा नहीं होता है क्योंकि ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी में एक ब्लॉक दूसरे ब्लॉक से कनेक्ट रहते बिटकॉइन का आविष्कार किसने किया हैं जब एक ब्लॉक भर जाता है तो दूसरे ब्लॉक में ट्रांसफर कर दिया जाता है

ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी का आविष्कार किसने किया

बहुत से न्यूज़ वेबसाइट के अनुसार जब एक देश में बैंक का पैसा गायब अर्थात बैंक के डेटाबेस को हैकर हैक करके चुरा लेते थे तब एक व्यक्ति ने सोचा कि एक ऐसी टेक्नोलॉजी को बनाया जाए जिसे ना तो सरकार कंट्रोल कर सके और ना ही आम इंसान तब 2008 में सतोशी नाकामोतो ने बिटकॉइन बनाने की सोची और ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के माध्यम से क्रिप्टोकरंसी बिटकॉइन को बनाया जिसमें किसी भी तरह का धोखाधड़ी नहीं किया जा सकता है

जब बिटकॉइन को मनाया गया तब इसका मूल्य ₹0 था परंतु आज बिट कॉइन का डिमांड इतना ज्यादा बढ़ चुका है कि 45 लाख रुपये तक चला गया था एक बिटकॉइन का मूल्य

और सबसे अजीब बात है कि 2011 में सतोशी नाकामोतो जिसने बिटकॉइन को बनाया था वह व्यक्ति अचानक से गायब हो गया और कुछ लोग यह भी कहते हैं कि सतोशी नाकामोतो नाम का व्यक्ति कोई था ही नहीं बस एक काल्पनिक है.

ब्लॉकचेन में होने वाले फायदे (Block Chain Ke Fayde)

डाटा रहेगा पूरी तरह बिटकॉइन का आविष्कार किसने किया सुरक्षित ब्लॉकचेन एक्सपोर्ट के द्वारा यह कहा जाता है कि यह एक प्रकार का एक्सचेंज प्रोसेस है जो डाटा ब्लॉक पर काम करता है जिसमें 1 ब्लॉक दूसरे ब्लॉक बिटकॉइन का आविष्कार किसने किया से कनेक्टेड रहते हैं जैसे एक ब्लॉक बढ़ता है दूसरे ब्लॉक में ट्रांसफर हो जाता बिटकॉइन का आविष्कार किसने किया है इसलिए एक्सपोर्ट के द्वारा कहा जाता है कि इन्हें कोई भी व्यक्ति हैक नहीं कर सकता है।

blockchain ke fayde

  • Block Chain का पहला संदर्व बिटकॉइन के स्रोत कोड के भीतर है पहला ब्लॉक चैन तब बनाया गया जब पहला बिटकॉइन को बनाया गया था
  • बिटकॉइन का आविष्कार किसने किया
  • ब्लॉकचेन बिटकॉइन के अंतर्निहित तकनीक में से एक है यह एक गलतफहमी है कि बिटकॉइन का आविष्कार किसने किया बिटकॉइन के पीछे ब्लॉकचेन का ही एकमात्र तकनीक है हालांकि बिटकॉइन को ब्लॉकचेन के साथ संयुक्त किया गया है
  • बिटकॉइन एक डिजिटल मुद्रा है जिसका उद्देश्य मुख्य रूप से बिटकॉइन का आविष्कार किसने किया भुगतान प्रणाली के रूप में प्रयोग किया जाता है ब्लॉकचेन का उपयोग केवल वृत्तीय लेनदेन ही नहीं बल्कि लेनदेन के रिकॉर्ड रखने और स्थानांतरित करने के लिए किया जाता है
  • डिजिटल पहचान, वोटिंग, सामाजिक नेटवर्क स्टोरेज की एक श्रृंखला में ब्लॉकचेन सिस्टम का उपयोग किया जाता है और बिटकॉइन सिर्फ एक डिजिटल मुद्रा के रूप में कार्य करता है
  • ब्लॉकचेन आधारित प्रणालियों कंपनियों और सरकार विकसित कर रही है जबकि दूसरी और बिटकॉइन का उपयोग अभी तक केवल डिजिटल भुगतान के लिए किया जा रहा है जबकि बिटकॉइन की कीमत लगातार लोकप्रियता हासिल करती आ रही है

ब्लॉकचेन कैसे काम करता है

Block Chain टेक्नोलॉजी दो शब्दों से मिलकर बना है पहला ब्लॉक और दूसरा चैन यानी की श्रृंखला ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी में डाटा अलग-अलग बॉक्स में एक दूसरे से जुड़े हुए होते हैं जब एक ब्लॉक भर जाते हैं तो दूसरे ब्लॉक ऑटोमेटेकली ट्रांसफर हो जाते हैं.

क्रिप्टो और करेंसी के मेल से बना है क्रिप्टोकरंसी जिसमें क्रिप्टो लेटिन भाषा का बिटकॉइन का आविष्कार किसने किया शब्द है जो क्रिप्टोग्राफी से लिखा गया है जिसमें क्रिप्टोग्राफी का अर्थ है छिपा हुआ जबकि करंसी लेटिन भाषा में currentia से लाया गया है जो कि रुपया पैसे के लिए इस्तेमाल किया जाता है

जैसा कि आपने देखा कि क्रिप्टो का अर्थ होता है छिपा हुआ इसलिए यह एक ऐसी करेंसी है जो ना छुआ जा सकता है और ना ही एक जगह से दूसरी जगह ले जाया जा सकता है इसलिए क्रिप्टो करेंसी को गुप्त क्रिप्टो करेंसी या डिजिटल करेंसी के रूप में जाना जाता है यह एक नोट के सिक्के की तरह आपकी जेब में नहीं रहते हैं यह पूरी तरह से ऑनलाइन होते हैं अगर आसान शब्दों में भारत की करेंसी अमेरिकी करेंसी डॉलर

रेटिंग: 4.91
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 150